Move to Jagran APP

Prayagraj News: मास्टरमाइंड शाबीना 30 लोगों से कर चुकी है ऑनलाइन ठगी, रकम पता करने में छूट रहे पसीने

साइबर गैंग की मास्टरमाइंड शाबीना उसका शौहर भाई अब 48 घंटे पुलिस कस्टडी रिमांड पर रहेंगे। इस दौरान साइबर ठगी से जुड़े अहम राज उगलने की बात कही जा रही है। पुलिस का कहना है कि 11 जुलाई को तीनों आरोपितों को नैनी जेल से बाहर लाकर पूछताछ की जाएगी। इसके बाद उनके द्वारा दिए गए बयान के आधार पर अन्य लोगों का नाम भी मुकदमे में बढ़ाया जाएगा।

By Tara Gupta Edited By: Vivek Shukla Wed, 10 Jul 2024 02:20 PM (IST)
Prayagraj News: मास्टरमाइंड शाबीना 30 लोगों से कर चुकी है ऑनलाइन ठगी, रकम पता करने में छूट रहे पसीने
मामले में साइबर थाने की पुलिस जांच को आगे बढ़ा रही है।

जागरण संवाददाता, प्रयागराज। साइबर गैंग की मास्टरमाइंड शाबीना ने रिटायर सीएमओ आलोक वर्मा से पहले भी कई लोगों को झांसे में फंसाया था। शुरुआती छानबीन में पता चला है कि शाबीना 30 लोगों से ठगी कर चुकी है, जिसकी संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है।

वह क्रिप्टो करेंसी के जरिए करोड़ों रुपये विदेश भेज चुकी है। मामले में कई तथ्य सामने आने के बाद मंगलवार को पुलिस ने शाबीना, उसके शौहर पटेल मोहम्मद और उसके भाई से पुलिस कस्टडी रिमांड (पीसीआर) पर पूछताछ के लिए कोर्ट में अर्जी दी है। कहा जा रहा है कि पीसीआर में ठगी की रकम, नेटवर्क सहित कई बिंदुओं पर पूछताछ की जाएगी।

इसे भी पढ़ें-ससुराल के लोगों ने उड़ाया मजाक, दूल्‍हे ने बुलडोजर पर बैठकर निकाली बारात

कालिंदीपुरम निवासी रिटायर सीएमओ आलोक वर्मा से आनलाइन एक करोड़ 26 लाख रुपये की ठगी हुई थी। पुलिस ठगी के 22 लाख रुपये को बैंक खाते में फ्रीज करा चुकी है, लेकिन बाकी रकम कहां है, इसका पता नहीं चल सका है। ठगी करने की आरोपित शाबीना समेत तीन लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।

इसे भी पढ़ें-गाजीपुर तिहरा हत्याकांड का खुलासा: पहले मां, फिर पिता और अंत में भाई का काटा गला, घर का 'लाडला' इश्‍क में बना हैवान

इस मामले में साइबर थाने की पुलिस जांच को आगे बढ़ा रही है। इसी दौरान इलेक्ट्रानिक उपकरणों की जांच, बैंक खाते, पासबुक समेत अन्य अभिलेखों से ठगी को लेकर नई जानकारी सामने आई है। यह भी पता चला है कि शाबीना और उसके सहयाेगियों ने 30 से अधिक लोगों के बैंक खाते से आनलाइन पैसे ट्रांसफर किए थे।

इस आधार पर माना गया कि उसने 30 से ज्यादा लोगों के साथ ठगी की है। अब उन शिकायतकर्ताओं सहित अन्य के बारे में बारे में भी छानबीन की जा रही है। इसके साथ ही कोर्ट से अनुमति मिलने पर जब तीनों अभियुक्तों को पीसीआर पर लेकर पूछताछ की जाएगी तो गिरोह से जुड़े कुछ अन्य सदस्यों का नाम भी उजागर होने की बात कही जा रही है। नए नाम प्रकाश में आने के बाद जांच का दायरा बढ़ाते हुए कार्रवाई की जाएगी।