Move to Jagran APP

माफिया अतीक के वकील पर कस गया कानूनी शिकंजा, घर पर कभी भी पहुंच सकती है पुलिस; आजीवन होगी निगरानी

माफिया अतीक-अशरफ के वकील पर अब पुलिस और शिकंजा कसने की तैयारी में हैं। बता दें कि पुलिस ने उमेश पाल हत्याकांड में आरोपित अतीक के बेटे उमर अली और उसके राजदार वकील खान शौलत हनीफ की हिस्ट्रीशीट खोली थी। इस कार्रवाई से विजय मिश्रा पर कानूनी शिकंजा कस गया है। उसके खिलाफ अलग-अलग थाने में नौ मुकदमे दर्ज हैं।

By Tara Gupta Edited By: Riya Pandey Tue, 09 Jul 2024 09:32 PM (IST)
माफिया अतीक के वकील की पुलिस ने खोली हिस्ट्रीशीट

जागरण संवाददाता, प्रयागराज। माफिया अतीक-अशरफ के वकील विजय मिश्रा भी हिस्ट्रीशीटर हो गया है। कैंट पुलिस ने उसकी भी बी-कटेगरी की हिस्ट्रीशीट खोली है, जिसका नंबर 22-बी है। अब उसकी पुलिस आजीवन निगरानी करेगी। जेल से बाहर आने के बाद भी पुलिस विजय के घर पहुंचकर दरवाजा खटखटा सकती है।

इस कार्रवाई से विजय मिश्रा पर कानूनी शिकंजा कस गया है। उसके खिलाफ अलग-अलग थाने में नौ मुकदमे दर्ज हैं। दरियाबाद निवासी लकड़ी कारोबारी से रंगदारी मांगने के आरोप में उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था। इसके बाद उमेश पाल हत्याकांड के मुकदमे भी अभियुक्त बनाया गया।

उमेश पाल हत्याकांड में मिले थे साक्ष्य

बताया गया है कि माफिया अतीक-अशरफ की मौत के बाद उनकी बेनामी संपत्ति को बिकवाने के लिए वकील विजय मिश्रा प्रयासरत था। वह लखनऊ के एक होटल में गौसपुर कटहुला स्थित साढ़े 12 करोड़ रुपये की जमीन को बिकवाने के लिए डील कर रहा था, तभी पुलिस ने उसे पकड़ा था। इससे पहले उमेश पाल हत्याकांड में उसके खिलाफ अहम साक्ष्य मिले थे।

जेल में बंद अशरफ और वकील के बीच 40 बार हुई बातचीत

विजय के मोबाइल की काल डिटेल रिपोर्ट (सीडीआर) से पता चला था कि बरेली जेल में बंद रहे अशरफ और वकील विजय के बीच 50 दिनों में 40 बार बातचीत हुई थी। कई बार उनके बीच लंबी-लंबी बात भी हुई थी। इतना ही नहीं, उमेश पाल की हत्या से कुछ घंटे पहले छह बार बातचीत हुई थी। उसके मोबाइल की लोकेशन भी कचहरी में मिली थी। आरोपित विजय ज्यादातर इंटरनेट काल व फेसटाइम एप के जरिए संपर्क करता था।

उमर, अली, खान शौलत के बाद विजय

इससे पहले पुलिस ने उमेश पाल हत्याकांड में आरोपित अतीक के बेटे उमर, अली और उसके राजदार वकील खान शौलत हनीफ की हिस्ट्रीशीट खोली थी। इनके बाद अब वकील विजय मिश्रा को हिस्ट्रीशीट बनाया गया है। इसकी हिस्ट्रीशीट भी बी-कटेगरी की खोली गई है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अब विजय की गतिविधियों की ताउम्र निगरानी की जाएगी।

यह भी पढ़ें- अशरफ की कुर्क जमीन की पैमाइश करेगी राजस्व टीम, जांच के बाद मकान बनाने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

यह भी पढ़ें- Prayagraj News: माफिया अशरफ की कुर्क जमीन पर बनवा लिया मकान, अब दर्ज हो रहा केस