संसू, प्रतापगढ़ : जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) के प्रथम स्थापना दिवस पर कंपनी बाग के सामने आयोजित सभा में प्रदेश अध्यक्ष विधायक विनोद सरोज ने कहा कि स्थापना के साल भर में ही जनसत्ता दल ने जो जनाधार तैयार किया है, उससे यह तय है कि सूबे में अगली सरकार जनसत्ता दल के बिना नहीं बन पाएगी।

उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में अराजकता का बोलबाला है। कानून-व्यवस्था की हालत बद से बदतर हो गई है। किसान, व्यापारी, छात्र, नौजवान परेशान है। महंगाई चरम पर है। इन सब मुद्दों को लेकर जनसत्ता दल बड़े पैमाने पर आंदोलन चलाएगा, जिससे जनता को झूठी सरकार के बारे में पता चल सके। पार्टी के प्रयागराज मंडल प्रभारी पूर्व विधायक हाजी मुन्ना ने कहा कि आरक्षण का लाभ सिर्फ धनी लोगों व अफसरों के बच्चों को ही मिल रहा है। आरक्षण के लाभ से गरीब दलित और पिछड़े के बच्चे वंचित हैं। जनसत्ता दल गरीब दलितों, पिछड़ों और सवर्णो को लाभ दिलाने के लिए आगे भी आंदोलन करता रहेगा।

जिला पंचायत अध्यक्ष उमाशंकर यादव ने कहा कि राजा भैया ने 25 साल की राजनीति में गरीबों, मजलूमों को न्याय दिलाने के लिए ही संघर्ष किया। विभिन्न सरकारों में मंत्री रहने के दौरान राजा भैया गरीब, पिछड़े, दलितों की आवाज उठाते रहे। उन्होंने कभी सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। जब राजा भैया को लगा कि सभी दलों की कथनी-करनी में अंतर है तो उन्होंने साल भर पहले जनसत्ता दल की स्थापना की। अब जनसत्ता दल लोगों की आवाज बनेगा।

पूर्व एमएलसी बब्बू राजा, अनिल सिंह लाल साहब, विवेक त्रिपाठी, मुन्ना सिंह सुजाखर, दिनेश सिंह डगैता, ब्लाक प्रमुख संतोष सिंह, हरिओम श्रीवास्तव, मुक्कू ओझा, दिनेश तिवारी, हैपी सिंह, संतोष द्विवेदी, प्रवीन चतुर्वेदी, इंसाफ सिंह आदि मौजूद रहे। सभा की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष रामअचल वर्मा व संचालन महामंत्री राजकुमार सिंह ने किया। सभा में फौजदार सिंह ने आल्हा प्रस्तुत किया। सभा के बाद राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन एडीएम को सौंपा। उधर, पार्टी के प्रथम स्थापना दिवस पर आयोजित सभा को लेकर समर्थकों में उत्साह दिखा।

---

राजा भैया की कमी खली

जनसत्ता दल (लोकतांत्रिक) का गठन करते हुए लखनऊ के रामाबाई पार्क में साल भर पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष रघुराज प्रताप सिंह राजा भैया ने पार्टी की घोषणा की थी। उस रैली में अपार जनसमूह उमड़ा था। पार्टी के प्रथम स्थापना दिवस पर समर्थकों को राजा भैया को यहां इंतजार था, लेकिन किसी व्यस्तता के कारण राजा भैया यहां नहीं पहुंच सके। ऐसे में कार्यकर्ताओं को उनकी कमी खली।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस