संवाद सूत्र, दीवानगंज : कंधई थाना क्षेत्र के सराय नानकार निवासी आर्मी के जवान चंद्रलोक तिवारी की उपचार के दौरान हुई मौत के बाद शहीद का दर्जा न देने का मामला गरमा गया है। गांव के लोगों और कई सामाजिक संगठनों ने भी आक्रोश व्यक्त करते हुए दिवंगत सैनिक को शहीद का दर्जा देने की मांग उठायी है।

शहीद के बड़े भाई आलोक तिवारी का कहना है कि उनके भाई की मौत के बाद योगी सरकार का कोई भी प्रशासनिक अधिकारी उनके घर नहीं पहुंचा, जबकि परंपरा के अनुसार ड्यूटी के दौरान किसी भी दशा में काल के गाल में समाए सैनिकों को सरकार की तरफ से शहीद का दर्जा देने के साथ ही उसी तरह की सुविधा देने की भी घोषणा करनी चाहिए। राष्ट्रीय परशुराम सेना के अध्यक्ष प्रदीप शुक्ला के नेतृत्व में सोमवार को संगठन के लोग सैनिक के घर पहुंचे। उनके पिता विजय नारायण से मिलकर संवेदना व्यक्त की। कहा कि चंद्रलोक के साथ जो भेदभाव किया गया है, वह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। शहीद शहीद होता है उसमें जाति धर्म के आधार पर कोई निर्णय नहीं लिया जाना चाहिए। मौके पर अरुण उपाध्याय, सुमित मिश्रा, आकाश राय, विनय तिवारी, प्रशांत पांडेय, अभिषेक मिश्रा, राजन मिश्रा व दिनेश मिश्रा भी मौजूद रहे। गायत्री परिवार के मुख्य ट्रस्टी चंद्रिका सिंह ने शहीद रीतेश पाल व चंद्रलोक तिवारी को श्रद्धांजलि दी है। राजगढ़ में बैठक में चंद्रिका ने कहा कि दोनों जवान भारत माता के सच्चे सपूत थे। विधायक दिवंगत सैनिक के पिता को दी आर्थिक सहायता

संसू, दीवानगंज : दिवंगत सैनिक चंद्रलोक तिवारी को शहीद दर्जा का मामला गरमाया तो दूसरे दिन सत्ता पक्ष के नेता व रानीगंज विधायक अभय कुमार उर्फ धीरज ओझा सैनिक के घर पहुंचे। सैनिक के पिता विजय नारायण तिवारी को अपनी तरफ से 51हजार रुपये तत्काल आर्थिक सहायता दी। इसी के साथ उन्होंने गांव में शहीद की स्मृति में एक प्रवेश द्वार तथा घर तक 200 मीटर इंटरलॉकिग मार्ग निर्माण कराने की घोषणा की। सैनिक को शहीद का दर्जा के लिए सीएम, अपर मुख्य सचिव तथा अपर मुख्य सचिव (गृह) से वार्ता हुई है। इस दौरान शिवगढ़ प्रमुख सत्यम ओझा, रानीगंज एसडीएम ज्ञानेंद्र विक्रम, भाजपा नेता अंशुमान आदि मौजूद रहे। पूर्व विधायक बृजेश सौरभ तथा बाबा बेलखरनाथ धाम के प्रमुख सुशील कुमार सिंह सराय नानकार स्थित सैनिक चंद्रलोक तिवारी के आवास पर पहुंचे। एमएलसी अक्षय प्रताप भी पहुंचे

संसू, प्रतापगढ़ : कंधई थाना क्षेत्र के सराय नानकार गांव में सैनिक के घर एमएलसी अक्षय प्रताप सिंह सोमवार की दोपहर पहुंचे। शहीद के पिता विजय नारायण तिवारी को ढांढस बंधाया। उनके साथ जनसत्ता दल लोकतांत्रिक के जिलाध्यक्ष राम अचल वर्मा, महासचिव राजकुमार सिंह, पूर्व प्रमुख विवेक त्रिपाठी, मीडिया प्रभारी मुक्कू ओझा, जीवेंद्र पाल, मुन्ना सोमवंशी भी थे।

Edited By: Jagran