बाघराय, जागरण टीम: बिहार विकास खंड के रोर गांव के प्रधान प्रतिनिधि संतोष पांडेय मंगलवार की दोपहर करीब एक बजे आवश्यक कार्य से ब्लॉक मुख्यालय गए हुए थे। इसी बीच एक चाय की दुकान पर पूर्व प्रधान रनबहादुरसिंह भी खड़े थे। किसी बात को लेकर दोनों जन के बीच कहासुनी होने लगी। देखते ही देखते दोनों के बीच मारपीट शुरू हो गई। प्रधान प्रतिनिधि ब्लॉक मुख्यालय के कमरे में छिपकर अपनी जान बचाते हुए अपने समर्थकों को फोन कर घटना के बारे में बताया।

देखते ही देखते पूर्व प्रधान के समर्थक भी मौके पर पहुंच गए और दोनों पक्षों में जमकर मारपीट होने लगी। इसी बीच थानाध्यक्ष बाघराय अवनकुमार दीक्षित ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराया। मारपीट रोर गांव सभा में आवास आवंटन व पुरानी राजनीतिक रंजिश के चलते हुई। 

गंभीर रूप से घायल प्रधान प्रतिनिधि रोर संतोष पांडेय व उनके बड़े भाई उमेश पांडेय व उनकी मां राजरानी पांडेय को गंभीर चोटें आई है। तीनों लोगों का इलाज सीएचसी बाघराय में होने के बाद डॉक्टरों ने प्रधान प्रतिनिधि संतोष पांडेय, उमेश पांडेय को इलाज के लिए एसआरएन प्रयागराज रेफर कर दिया।

ब्लाक परिसर में दिनदहाड़े हुई मारपीट की घटना से दोनों पक्षों में जमकर तनाव हो गया था। थानाध्यक्ष बाघराय अवन कुमार दीक्षित ने बताया कि दोनों पक्षों में आवास आवंटन के मुद्दे को लेकर हाथापाई व मारपीट हुई है। मामले की गहराई से जांच की जा रही है। किसी भी तरह विवाद अब बढ़ने नहीं दिया जाएगा। सुरक्षा की दृष्टि से पीएसी बल व पुलिस तैनात किया जाएगा। फिलहाल, पूर्व प्रधान रन बहादुर सिंह व पवन सिंह उर्फ बिक्कू सिंह का शांति भंग के तहत चालान किया गया है।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट