संसू, प्रतापगढ़/ संडवा चंद्रिका : अंतू थाना क्षेत्र के बंडा निवासी व्यवसायी साजन शुक्ला की पुलिस हिरासत में हुई मौत की घटना की हकीकत जानने शनिवार पूर्व केंद्रीय मंत्री व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जितिन प्रसाद पीड़ित परिवार के घर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाते हुए कहा कि अमेठी पुलिस द्वारा की गई इस अमानवीयता के मामले को कांग्रेस विधानसभा के साथ ही संसद में भी उठाएगी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने साजन के पिता विदेश्वरी प्रसाद शुक्ल से मुलाकात की। पूर्व मंत्री से सीबीआइ जांच कराने की मांग करते हुए साजन के पिता ने कहा कि पुलिस द्वारा की गई बेटे की हत्या में न्याय देने के बजाए उसे पुलिस ने लूट के मुकदमे में आरोपित बना दिया। साजन के भाई शिक्षक ओम प्रकाश शुक्ला व बेटे राहुल व साहिल ने पुलिस द्वारा साजन की पिटाई से हुई मौत व अन्य घटनाओं के बारे में उन्हें विस्तार से बताया। उन्होंने समस्त अभिलेख की प्रति पूर्व मंत्री को सौंपी, जिसे जितिन ने प्रियंका गांधी को सौंपे जाने का आश्वासन दिया। पूर्व मंत्री ने कहा कि प्रियंका गांधी के निर्देश पर पीड़ित परिवार के पास आए हैं। उन्होंने साजन के बेटे राहुल को अपना मोबाइल नंबर व मेल आईडी देते हुए अन्य अभिलेख भेजने को कहा। इस मौके पर कांग्रेस जिलाध्यक्ष बृजेंद्र मिश्र व डॉ. नीरज त्रिपाठी, ललित तिवारी, डा.लालजी त्रिपाठी, यमुना प्रसाद पांडेय जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद थे। इससे पहले कांग्रेस जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में अधिवक्ता संतोष तिवारी, संजय पांडेय, डॉ.वीके सिंह, प्रेम दूबे, अशोक सिंह, श्याम शंकर तिवारी सहित कई कांग्रेसियों ने बाबूगंज में माला पहनाकर स्वागत किया।

----------

पुलिस कस्टडी में हुई थी साजन शुक्ला की मौत

अंतू क्षेत्र के बरबंडा निवासी साजन शुक्ला को पीपरपुर अमेठी की पुलिस 28 अक्टूबर की रात उनके घर से उठाकर बेटों के साथ थाने पर ले गई थी। आरोप है कि पुलिस महीने भर पहले यूको बैंक बाबूगंज शाखा के कैश लूट कांड में पूछताछ के लिए उन्हें घर से उठाकर ले गई थी। यह बैंक साजन के ही मकान में किराये पर है। बैंक लूटकांड के अगले ही दिन साजन की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी।

------

कानून व्यवस्था पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने साधा निशाना

संसू, प्रतापगढ़ : यूपी की कानून व्यवस्था को लेकर कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी व प्रदेश की मंत्री स्वाती सिंह पर निशाना साधा। कहा कि महाराष्ट्र में सरकार पर स्मृति इरानी जी मराठी में ट्वीट कर रही हैं, जबकि उनके संसदीय क्षेत्र में इस तरह की घटना हुई और पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिल सका। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी घटना हो गई और वह प्रतापगढ़ व अमेठी क्यों नहीं आईं। महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री की शपथ पर टिप्पणी करते हुए जितिन प्रसाद ने कहा कि और क्या उम्मीद रखते हैं इस निरंकुश सरकार से। जहां भाजपा सरकार कानूनी प्रक्रिया और संवैधानिक प्रक्रिया को ताक पर रखकर सत्ता के लालच में कुछ भी कर सकती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस