कुंडा : जमीन के विवाद में पंपिग सेट पर गए युवक को दबंगों ने गोली मार दी। गोली उसके पेट में जा लगी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने स्वजनों की मदद से उसे सीएचसी लालगंज में भर्ती कराया। वहां से प्राथमिक उपचार के लिए उसे प्रयागराज स्थित एसआरएन अस्पताल रेफर कर दिया। वहां उसका इलाज चल रहा है।

महेशगंज थाना क्षेत्र के सीमा बार्डर पूरे गोपाल पांडेय का पुरवा कौडियाडीह गांव निवासी सूरज शुक्ला (30) पुत्र दिनेश चंद्र शुक्ला बीते मंगलवार की रात करीब आठ बजे शौच के लिए अपने घर से दो सौ मीटर दूर पंपिग सेट पर गए हुए थे। वहां पर दो दबंगों ने जमीन के विवाद में सूरज को गोली मार दी। गोली सूरज के पेट में जा लगी। स्वजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची महेशगंज पुलिस घायल को उपचार के लिए सीएचसी लालगंज ले गई। वहां से घायल सूरज को इलाज के लिए प्रयागराज स्थित एसआरएन अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। प्रभारी एसओ श्याम सुंदर श्रीवास्तव का कहना है कि मामला संदिग्ध है, फिलहाल युवक को इलाज के लिए प्रयागराज भेजा गया है। तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी। अवैध नर्सिग होम पर कार्रवाई से कतरा रहा महकमा : एक तरफ स्वास्थ्य विभाग फर्जी तरीके से चल रहे नर्सिग होम के खिलाफ अभियान चलाता है, तो दूसरी तरफ ऐसे नर्सिंग होम संचालकों के पकड़े जाने के बाद भी कार्रवाई नहीं होती। यहां के एक मामले में जांच करने वाली स्वास्थ्य विभाग की टीम ने फर्जी तरीके से संचालित होने वाले नर्सिंग होम संचालक का पूरा चिट्ठा अपनी जांच रिपोर्ट में विभाग अधिकारियों को सौंप चुकी है, लेकिन चार दिन बीत जाने के बाद भी आलाधिकारी नर्सिंग होम संचालक को बचाने में लगे हैं। 31 जुलाई की दोपहर टीम ने एमयू मेडिकल सेंटर पर छापा मारा था। बहुत सी गड़बड़ी मिली थी। बिना वैध डिग्री के बिना इलाज का मामला मिला था। अवैध रूप से रखी दवाएं, जंबो सिलेंडर समेत इलाज के उपकरण मिले थे। एसडीएम के आदेश पर नर्सिंग होम को सील कर दिया गया था। इस बारे में डिप्टी सीएमओ डा.एसके सिंह का कहना है कि अभी जवाब मांगा गया है। सही जवाब न मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran