जासं, प्रतापगढ़ : उन तीन व्यापारियों की सुरक्षा शनिवार को अचानक हटा ली गई, जिन्हें जान का खतरा है। इन्हें पिछले कई महीने से चौबीसों घंटे के लिए गनर मिले थे। अचानक एसपी अभिषेक सिंह द्वारा लिया गया निर्णय व्यापारियों और उनके परिजनों को समझ में नहीं आया। वह पहले ही डरे सहमे थे और अब तो गनर हटा लिए जाने से उनकी रही-सही आस भी बुझ गई।

सवाल उठता है कि तीन व्यापारियों की सुरक्षा हटा लेने के निर्णय से यह मान लिया जाए कि जिले में पूरी तरह अमन-चैन कायम हो चुका है। अपराधी शहर छोड़कर भाग चुके हैं। यह भी कि इन व्यापारियों की जान को अब कोई खतरा नहीं रह गया है। ये और इनके परिवार वाले पूरी तरह महफूज हैं। इसी के साथ दूसरा सवाल उठता है कि अगर इनकी जान को कोई खतरा हुआ तो कौन जिम्मेदार होगा। पट्टी ब्लाक क्षेत्र के अमरगढ़ बाजार के व्यापारी कृष्ण कुमार उर्फ बच्चा सेठ से जेल से फिरौती मांगी जा रही थी, उसका ऑडियो भी वायरल हुआ था। यहां तक कि व्यापारी कृष्ण कुमार घर छोड़कर इस जिले से पलायन करने जा रहा था। इसकी जानकारी मिलते ही तत्कालीन एसपी देवरंजन वर्मा ने बीच रास्ते उसे अपने कार्यालय बुलवा लिया था और उसे मनाया था। इसके बाद उसे स्वयं अपनी कार से उसे उसके अमरगढ़ स्थित घर जाकर छोड़ा था, उसी समय से व्यापारी कृष्ण कुमार को गनर की सुरक्षा मिली थी, जो शनिवार को एसपी के आदेश से हटा ली गई। व्यापारी ने दैनिक जागरण से बताया कि इस बाबत शनिवार को एसपी आफिस फोन करके पूछा तो बताया गया कि पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह के आदेश से उनका गनर हटा लिया गया है। इसी तरह चिलबिला के प्रतिष्ठित मिष्ठान व्यवसायी आशीष मौर्य एवं रूमा हास्पिटल के डा. मनीष सिंह का भी गनर शनिवार को हटा लिया गया। डा. मनीष सिंह ने दैनिक जागरण से बताया कि वह एक सप्ताह पहले ही एसपी से मिले थे और सुरक्षा जारी रखने का अनुरोध किया था। उन्हें धमकी देने वाला तौकीर का तो एनकाउंटर हो गया, मगर उसके अन्य साथी अभी फरार हैं, उनसे जान को खतरा है। अचानक शनिवार को गनर हटा लिए जाने से वह काफी चितित हैं। वहीं आशीष मौर्य भी एसपी के इस निर्णय से काफी डर गए हैं, उनका कहना है कि उन्हें नहीं समझ में आ रहा है कि एसपी ने इस तरह का कदम क्यों उठाया, उन्हें जान का खतरा है। वह इस बारे में एसपी से मिलेंगे। समीक्षा के बाद फिर निर्णय लेंगे-एसपी

एसपी अभिषेक सिंह का कहना है कि वह इन व्यापारियों की सुरक्षा को लेकर समीक्षा करेंगे। अगर जरूरत समझी जाएगी तो इनकी सुरक्षा के लिए फिर से गनर की तैनाती कर दी जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस