Move to Jagran APP

UPPCL: बिजली विभाग ने जारी किया नया आदेश, इस डिवीजन में हर महीने नहीं आएगा बिल

लालगंज डिवीजन के बाद अब जल्द ही अन्य डिवीजन में भी मीटर रीडर दो महीने की रीडिंग कर बिल तैयार करेंगे। दरअसल मीटर रीडरों का दायरा अधिक होने पर वह रीडिंग करने में लापरवाही बरत रहे थे। इसे देखते हुए अब इसकी तैयारी की जा रही है। गांवों में मीटर रीडर लापरवाही से बिल में लगातार आ रही खामियां आ रही थीं।

By Sumit Mishra Edited By: Abhishek Pandey Tue, 28 May 2024 10:49 AM (IST)
बिजली विभाग ने जारी किया नया आदेश, इस डिवीजन में हर महीने नहीं आएगा बिल

संवाद सूत्र, प्रतापगढ़। लालगंज डिवीजन के बाद अब जल्द ही अन्य डिवीजन में भी मीटर रीडर दो महीने की रीडिंग कर बिल तैयार करेंगे। दरअसल मीटर रीडरों का दायरा अधिक होने पर वह रीडिंग करने में लापरवाही बरत रहे थे। इसे देखते हुए अब इसकी तैयारी की जा रही है।

गांवों में मीटर रीडर लापरवाही से बिल में लगातार आ रही खामियां आ रही थीं। इससे उपभोक्ताओं को परेशान होना पड़ता था। उन्हें कार्यालयों का चक्कर लगाना पड़ता था। मीटर रीडर प्रतिमाह बिल नहीं बनाते थे। जांच के बाद इसमें मीटर रीडरों की कमी एवं लापरवाही दोनों सामने आई।

कार्यभार अधिक होने की वजह से मीटर रीडर रीडिंग के नाम पर खानापूर्ति कर रहे थे। सबसे ज्यादा दिक्कत लालगंज डिवीजन में मिली थी। इससे समस्या को दूर करने क लिए गांवों में मीटर रीडर अब दो महीने पर उपभोक्ताओं के घर पहुंचेंगे। रीडिंग कर बिल बनाएंगे। यानी अब दो महीने का बिल एक साथ उपभोक्ता जमा करेंगे। डिवीजन को चार पार्ट में बांटा जाएगा। चरणबद्ध तरीके से यह किया जाएगा।

जिले में कुल 375 मीटर रीडर हैं। लालगंज में 75 मीटर रीडर हैं। लालगंज डिवीजन के बाद जल्द ही रानीगंज, कुंडा व सदर डिवीजन के ग्रामीण क्षेत्रों में भी यह व्यवस्था शुरू की जाएगी। अधीक्षण अभियंता सत्यपाल ने बताया कि अब यह पहल अन्य डिवीजन में भी की जाएगी, ताकि बिलिंग व्यवस्था बेहतर हो सके।

इसे भी पढ़ें: यूपीडा से औद्योगिक गलियारे की जमीन बैनामा पर रोक, अब तक 104 हेक्टेयर जमीन की हो चुकी है रजिस्ट्री