प्रतापगढ़ : नवसृजित नगर पंचायतों में सामुदायिक शौचालय और व्यक्तिगत शौचालयों के निर्माण कार्य शुरू न होने की गूंज सीएम कार्यालय तक पहुंची है। माह भर पहले से आए लाखों रुपये को अभी तक खर्च नहीं किया गया। इसे लेकर जनप्रतिनिधियों में नाराजगी है।

जिले की नवसृजित नगर पंचायत पृथ्वीगंज, कोहंड़ौर व सुवंसा में सामुदायिक शौचालय बनाने के लिए आठ लाख रुपये के हिसाब से 24 लाख रुपये नगर पंचायतों के खाते में भेजा गया है। दो माह से अधिक का समय बीत गया, लेकिन अभी तक शौचालय का निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ। पैसा डंप होने से शासन सख्त हो गया है। इसी तरह से नगर पंचायतों में एक हजार 373 व्यक्तिगत शौचालयों का आया पैसा 54 लाख 92 हजार रुपये को भी लाभार्थियों के खाते में भेजने में लापरवाही बरती जा रही है। मामला शासन में पहुंचने से नगर विकास विभाग के कार्यकारी निदेशक विपिन जैन ने इसे संज्ञान में लिया। चेतावनी देते हुए एक माह के भीतर इन पैसों से कार्य कराकर रिपोर्ट देने को कहा है। शासन की सख्ती से अफसरों में खलबली मची हुई है। लापरवाही बरतने पर कार्रवाई हो सकती है।

---

आठ हजार रुपये के हिसाब से मिलेगा पैसा

नगर के एक हजार 373 लाभार्थियों को आठ हजार रुपये के हिसाब से शौचालय का पैसा दिया जाना है। इसमें से लाभार्थियों को पहली किश्त के रूप में चार हजार रुपये दिया गया है। हालांकि अभी तक शौचालयों का निर्माण कार्य जोरों से शुरू नहीं हुआ। जब नगर विकास विभाग के कार्यकारी निदेशक ने इसकी समीक्षा की तो प्रगति काफी खराब मिली। इस पर उन्होंने गहरी नाराजगी भी जताई।

Edited By: Jagran