प्रतापगढ़ : विधानसभा चुनाव नजदीक है। ऐसे में अभी से ही सारी तैयारियां शुरू हो गई हैं। बिहार प्रांत में मतदान कराने के लिए जिले से 13 हजार 700 से अधिक वोटिग मशीन भेजी गई थी। सितंबर माह में मशीनें वापस मंगाई गई। सप्ताह भर से महुली मंडी में मशीन की जांच चल रही है। अभी तक इसमें से 70 मशीन खराब मिली है। खराब मशीन की रिपोर्ट तैयार हो रही है। इसे निर्वाचन आयोग के अलावा डीएम समेत अफसरों को भेजी जाएगी।

बिहार में मतदान कराने के लिए बैलेट यूनिट की पांच हजार 180, कंट्रोल यूनिट की चार हजार 140 व वीवी पैट की चार हजार 450 मशीन भेजी गई थी। इस तरह से कुल 13 हजार 700 से अधिक मशीन वहां से वापस आई है। निर्वाचन कार्यालय के वरिष्ठ सहायक अनूप श्रीवास्तव सहित कई और कर्मियों द्वारा जांच करने की मॉनीटरिग की जा रही है। जांच में अभी तक 70 मशीन के खराब होने बीत सामने आई है। इसमें से बैलेट यूनिट की 10, कंट्रोल यूनिट की 60 मशीन खराब मिली। वीवी पैट मशीन की जांच चल रही है। कई खराब मिलना तय है। एडीएम सुनील कुमार शुक्ला ने बताया कि महुली मंडी में वोटिग मशीन की जांच चल रही है। जो मशीनें खराब मिल रही हैं, उसे ठीक कराया जाएगा।

----

सफाई कर्मियों से लिया जा रहा सहयोग

महुली मंडी में मशीन की जांच चल रही है। एक साथ मेज पर दर्जन भर से अधिक मशीन को रखा जा रहा है। इसमें टेक्निकल टीम वोटिग मशीन को ऑन करके ट्रायल कर रही है। यह देख रही है कि मशीन काम कर रही है कि नहीं। पंचायतीराज विभाग से भेजे दो दर्जन से अधिक सफाई कर्मियों से मशीन की सफाई कराने के साथ उसे मेज पर रखने व बाद में उसे सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी दी गई है।

---

एडीएम कर रहे मॉनीटरिग

मशीन के कौन से पार्ट खराब हैं। उसमें क्या दिक्कतें आ रहीं हैं। इसकी पूरी रिपोर्ट एडीएम को भेजी जा रही है। एडीएम भी मौके पर जाकर मशीनों की जांच की हकीकत खंगाल रहे हैं। विधानसभा चुनाव के पहले ही खराब पड़ी सारी मशीनों को दुरुस्त किए जाने का दावा अफसर कर रहे हैं। हालांकि समय से जांच होने से काफी राहत है। समय से खराब मशीन की मरम्मत हो सकेगी। नई मशीन मंगाई जा सकती है।

Edited By: Jagran