पीलीभीत, जेएनएन : युवा जाग्रति परिषद के गणेश चौथ उत्सव का समापन रविवार को हुआ। भक्तों ने भगवान विध्न विनाशक गजानन महाराज का पूजन किया। गणेश प्रतिमा को रंग-गुलाल लगाया। भक्तों ने एक दूसरे को गुलाल लगाया। इसके बाद गणेश प्रतिमा को लेकर ब्रह्मचारी घाट पहुंचे। वहां मंत्रोच्चार से प्रतिमा का विसर्जन किया। इसके साथ ही विघ्नहर्ता से अगले वर्ष जल्द आने की कामना की। वहीं, बिलसंडा में भी उत्सव के समापन पर गणेश प्रतिमा का विसर्जन खन्नौत नदी में किया गया।

परिषद हर साल रामलीला मैदान पर भव्य गणेश चौथ मेले लगाती है। यह मेला एक पखवारा तक चलाता था। इसमें बाहरी स्थानों से भी कई तरह के खेल-तमाशा वाले और दुकानदार आया करते थे। लेकिन, पिछले साल कोरोना महामारी का दौर आने पर मेला स्थगित करना पड़ा। इस बार भी कोरोना की वजह से ही मेला नहीं लगा। परंपरा का निर्वाह करने के लिए शहर के मुहल्ला नई बस्ती स्थित एक आवासीय परिसर में गणेश प्रतिमा की स्थापना कराई। भजन-कीर्तन आरती जैसे कार्यक्रम के साथ उत्सव मनाया। उत्सव के समापन पर रविवार को दोपहर श्रद्धा के साथ प्रतिमा का विसर्जन ब्रह्मचारी घाट स्थित देवहा नदी में किया। विसर्जन में संस्था के प्रदीप तिवारी, राकेश मौर्य, श्याम बहादुर, भगवत सरन, कल्यान मौर्य, राजेश, कौशल, हीरालाल, कन्हैया पाल, गोपाल, सुशील, महेंद्र सरीन, महावीर, अमित पाठक, रमाकांत मिश्र, अजय मौर्य आदि शामिल रहे।

बिलसंडा : कस्बा में गणेश चौथ का उत्सव धूमधाम से मनाया जाता था। कोरोना महामारी के चलते इस बार सादगी के साथ विगत 10 सितंबर को नगर के देवी स्थान पर गणेश प्रतिमा को विराजमान किया गया। रविवार को सुबह गणेश प्रतिमा की नगर में शोभायात्रा निकाली गई। फिर खन्नौत नदी में विसर्जन कर दिया। विसर्जन करने वालों में आयोजक राजीव मिश्रा, संदीप मिश्रा, नवनीत मिश्रा, विकास शर्मा, संजय शर्मा आदि शामिल रहे।

Edited By: Jagran