पीलीभीत : शहर में बिजली संकट का समाधान नहीं हो पा रहा है। दूसरे दिन भी लगभग आधे शहर की बिजली लगातार सात घंटे गुल रही। बाजार में बिजली पर आधारित व्यवसाय करने वाले दुकानदारों को खासी दिक्कत रही। बिजली के अभाव में नगर पालिका परिषद के नलकूप भी नहीं चल सके। ऐसे में नागरिकों को जलापूर्ति भी नहीं मिल सकी।

सुबह केबल बदलने के लिए रामलीला बिजलीघर से कर्मियों ने शटडाउन लिया। केबल डालने का काम चलने लगा। दोपहर में अचानक तेज बारिश होने लगी। बिजलीघर का ¨लटर टपकने लगा तो बारिश का पानी कंट्रोल पैनल में घुस गया। ऐसे में केबल डालने का काम निपट जाने के बाद भी शटडाउन वापस होने में समस्या खड़ी हो गई। काफी देर बाद बारिश बंद होने पर कंट्रोल पैनल से पानी निकाला गया। करीब साढ़े तीन बजे आपूर्ति बहाल हुई लेकिन उसमें भी छतरी चौराहा और सिविल लाइंस में आपूर्ति चालू नहीं हो सकी। उपभोक्ताओं ने जब इसकी शिकायत की तो पता चला कि कहीं फाल्ट हुआ है। पेट्रो¨लग के बाद फाल्ट दुरुस्त हुआ, तब बिजली आपूर्ति सुचारू हुई। मंगलवार की रात निरंजन कुंज कॉलोनी में ने टेलीफोन एक्सचेंज के पीछे लगे ट्रांसफार्मर में एकाएक धमाका हुआ और पूरे क्षेत्र की बिजली आपूर्ति भंग हो गई। वैसे भी दिन में इस क्षेत्र की बिजली आपूर्ति बाधित रही। शाम को बिजली आने के बाद लोगों के इनवर्टर भी पूरी तक चार्ज नहीं हो सके थे। ऐसे में ट्रांसफार्मर में फाल्ट आने से घरों में अंधेरा छा गया। जिला अस्पताल की भी बिजली घंटों इसी वजह से गुल रही। मंगलवार और बुधवार दोनों दिन नागरिकों को बिजली की समस्या से जूझना पड़ा। एसडीओ टाउन रणवीर ¨सह के अनुसार रामलीला रोड सब-स्टेशन में कंट्रोल पैनल में बरसाती पानी आ जाने से समस्या आ गई थी लेकिन अब पूरे शहर की बिजली आपूर्ति सामान्य हो गई है।

Posted By: Jagran