जागरण संवाददाता, नोएडा : पचास हजार रुपये रिश्वत लेते लाइनमैन का वीडियो वायरल होने के मामले में विद्युत निगम के मुख्य अभियंता वीएन सिंह ने दो सदस्यीय जांच कमेटी गठित कर दी है। कमेटी अधीक्षण अभियंता प्रथम सर्वेश खरे के नेतृत्व में जांच कर सप्ताह भर में रिपोर्ट सौंपेगी। उधर, मामले में कई शीर्ष अधिकारियों पर भी गाज गिर सकती है। वायरल आडियो और वीडियो के आधार पर लाइनमैन से अधिकारियों की जानकारी जुटाई जाएगी। अब तक की जांच में अधिशासी अभियंता व सहायक अभियंता का नाम सामने आया है। हालांकि मुख्य अभियंता ने जांच पूरी होने के बाद रिश्वतखोरों पर नकेल कसने का दावा किया है।

बुधवार को वीडियो के साथ ही लाइनमैन का उपभोक्ता से फोन पर बात करते हुए आडियो भी वायरल हुआ था। लाइनमैन ने स्पष्ट तौर पर कुछ शीर्ष अधिकारियों का हवाला देकर धन की मांग की थी। उधर, गोपनीय तरीके से विजिलेंस टीम को भी अधिकारियों की जांच के आदेश दिए गए हैं। मामले की जांच एसडीओ प्रथम योगेंद्र कुमार और एई मीटर कपिल कुमार को सौंपी गई है। गौरतलब है कि, सेक्टर-67 स्थित 33/11 केवी उपकेंद्र के लाइनमैन मनीष यादव का गढ़ी चौखंडी गांव में उपभोक्ता से 50 हजार रुपये रिश्वत लेते वीडियो व आडियो वायरल हुआ था। प्रथम²ष्टया जांच में कुछ बिदु सही मिलने पर लाइनमैन को निलंबित किया जा चुका है। निगम के मुख्य अभियंता वीएन सिंह ने बताया कि उपखंड अधिकारी व सहायक अभियंता जांच कर रिपोर्ट अधीक्षण अभियंता को सौंपेंगे। रिपोर्ट के आधार पर आरोपित लाइनमैन के खिलाफ आगे की कार्रवाई होगी।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप