जागरण संवाददाता, नोएडा: फेस-2 स्थित राजकीय संप्रेक्षण गृह (किशोर) के आइसोलेशन कक्ष के शौचालय का दरवाजा तोड़कर फरार हुए तीनों बाल अपचारी को पुलिस ने संरक्षण में लिया है। इस संबंध में राजकीय संप्रेक्षण गृह (किशोर) के अधीक्षक की शिकायत पर फेज-2 पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज करके मामले की जाच की जा रही थी।

नोएडा सेंट्रल जोन के एडिशनल डीसीपी अंकुर अग्रवाल ने बताया कि फेज-2 स्थित राजकीय संप्रेक्षण गृह (किशोर) से 31 जुलाई की रात तीन बाल अपचारी आइसोलेशन कक्ष के शौचालय में लगे लोहे की चादर का दरवाजा मोड़कर उसमें से फरार हो गए थे। पुलिस मुकदमा दर्ज करके मामले की जाच की जा रही थी। विवेचना के दौरान शनिवार की रात एक बाल अपचारी को एनएसइजेड मेट्रो स्टेशन के पास से संरक्षण में लिया गया। वहीं दूसरे बाल अपचारी को रविवार को भंगेल से संरक्षण में लिया गया है। दोनों बाल अपचारी 29 जुलाई को थाना बादलपुर के मुकदमे में संरक्षण गृह में भेजा गया था। वहीं तीसरे बाल अपचारी को रविवार रात कुलेसरा बॉर्डर दादरी रोड से संरक्षण में लिया गया है। उसे 22 जुलाई को संरक्षण गृह में भेजा गया थ। संप्रेक्षण गृह में है 73 बाल अपचारी:

डीपीओ अतुल कुमार सोनी का कहना है कि वर्तमान में यहा 73 बाल अपचारी रह रहे हैं। इनकी सुरक्षा में करीब 20 से अधिक सुरक्षा गार्डो की तैनाती की गई है। घटना के दिन वाल अपचारी खाना खाने के बाद जल्द सोने की बात कहकर चले गए थे। चूंकि कोरोना संदिग्ध होने के चलते ही तीनों को अन्य बाकी बाल अपचारी से अलग रखा गया था। इसके लिए आइसोलेशन कक्ष बनाया है। इसे कुछ दिन पूर्व ही बनाया गया है। सुरक्षा व्यवस्था में चूक हुई है। इस संबंध में जेल अधीक्षक से सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने को कहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस