ग्रेटर नोएडा [शेखर वर्मा]। कहते हैं जज्बा और जुनून हो तो हर मुकाम हासिल किया जा सकता है। यही बात बीमारी पर भी लागू होती है। नोएडा के सेक्टर-22 की रहने वाली 80 वर्षीय महिला ने कोरोना को मात देकर दिखाया है कि उम्र किसी की मोहताज नहीं है। बीमारी से निजात केवल इच्छा शक्ति से मिल पाई है। बुजुर्ग महिला की दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आने पर शुक्रवार को उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया। हालांकि, उनका 40 वर्षीय बेटा अभी भी कोरोना से जंग लड़ रहा है।

शारदा अस्पताल के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. अजीत कुमार ने बताया कि सेक्टर-22 निवासी मां और बेटा 10 मई को अस्पताल में भर्ती हुए थे। महिला को रक्तचाप सहित दिल संबंधी बीमारियां थीं। ऐसे में चिकित्सा अधीक्षक आशुतोष रंजन के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन किया गया।

टीम रोजाना महिला के स्वास्थ्य पर नजर रखे हुई थी। साथ ही दिल संबंधी रोगों के लिए विशेषज्ञ डॉ. शुभेंदू मोहंती को तैनात किया गया था। इसके अलावा अन्य मेडिकल स्टाफ बुजुर्ग महिला से लगातार बात करते और उनका हौसला बढ़ाते थे।

महिला की इच्छा शक्ति ही है कि उम्र के इस पड़ाव पर कोरोना को मात देकर वह स्वस्थ हुईं। शुक्रवार को दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

वहीं, उनका 40 वर्षीय बेटा अभी अस्पताल में भर्ती हैं और कोरोना से जंग लड़ रहा है। नोडल अधिकारी डॉ. अभिषेक त्रिपाठी ने बताया कि संतुलित आहार और मेडिकल स्टाफ की मेहनत व लगन से महिला को स्वस्थ होने में काफी मदद मिली।

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस