ग्रेटर नोएडा, जागरण संवाददाता। प्रदेश की परियोजना निगरानी एवं क्रियान्वयन समिति (पीएमआइसी) ने जेवर एयरपोर्ट के निर्माण एवं संचालन के लिए चयनित ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी के नाम पर मुहर लगा दी। मुख्य सचिव की अध्यक्षता में सोमवार को लखनऊ में पीएमआइसी की बैठक हुई। अब प्रदेश कैबिनेट में इसे मंजूरी के लिए रखा जाएगा।

बता दें कि जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए 29 नवंबर को खोली गई फाइनेंशियल बिड ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी ने अडानी इंटरप्राइजेज को पछाड़ते हुए हासिल की है। कंपनी ने प्रति यात्री 400.97 रुपये राजस्व की बोली लगाई थी।

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नियाल) के अधिकारियों द्वारा पीएमआइसी के सदस्यों को सोमवार को हुई बैठक में जेवर एयरपोर्ट के लिए ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी के चयन की जानकारी दी गई। इस दौरान पीएमआइसी के सदस्यों ने नियाल के अधिकारियों से जानकारी ली कि जेवर एयरपोर्ट के लिए प्रति यात्री मिलने वाला राजस्व अन्य एयरपोर्ट के सापेक्ष कितना अधिक या कम है।

इस पर नियाल अधिकारियों ने समिति को जानकारी दी कि देश के सभी एयरपोर्ट से प्रति यात्री मिलने वाले राजस्व के सापेक्ष जेवर एयरपोर्ट से मिलने वाला राजस्व सबसे अधिक होगा। समिति ने इसके लिए नियाल के अधिकारियों की प्रशंसा की और परियोजना को समय से पूरा कराने के लिए उचित कदम उठाने के निर्देश दिए।

पीएमआइसी की मुहर लगाने के बाद जेवर एयरपोर्ट के निर्माण एवं संचालन के लिए ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी के चयन का प्रस्ताव प्रदेश कैबिनेट में रखा जाएगा। कैबिनेट की मुहर लगाने के बाद कंपनी के चयन की अधिसूचना जारी होगी। नियाल के नोडल अफसर शैलेंद्र भाटिया ने बताया कि पीएमआइसी ने ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी के चयन पर सहमति दे दी है। इसे कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

 

Posted By: Prateek Kumar

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस