Move to Jagran APP

Reasi Terror Attack: अखबार में देखा फोटो तो सुध खो बैठी मां, ग्रेटर नोएडा से परिवार जम्मू के लिए रवाना

जम्मू के रियासी में शिवखोड़ी धाम के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालुओं की बस पर आतंकी हमले में ग्रेटर नोएडा के कुलेसरा गांव के बंटी गुप्ता मीरा व लक्ष्मी भी घायल हो गए। बंटी व लक्ष्मी गोली लगने व मीरा बस के खाई में गिरने से घायल हुई हैं। सुबह पड़ोसियों ने आतंकी हमले में बंटी के घायल होने की खबर के साथ फोटो देखी तो घटना का पता चला।

By Ajab Singh Edited By: Abhishek Tiwari Published: Tue, 11 Jun 2024 10:30 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 10:30 AM (IST)
अखबार में देखा फोटो तो सुध खो बैठी मां, ग्रेटर नोएडा से परिवार जम्मू के लिए रवाना (बंटी का फोटो)

अजब सिंह भाटी, ग्रेटर नोएडा। जम्मू के रियासी में शिवखोड़ी धाम के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालुओं की बस पर आतंकी हमले में ग्रेटर नोएडा के कुलेसरा गांव के बंटी गुप्ता, मीरा व लक्ष्मी भी घायल हो गए। बंटी व लक्ष्मी गोली लगने व मीरा बस के खाई में गिरने से घायल हुई हैं। मीरा व लक्ष्मी रिश्ते में देवरानी जेठानी हैं और मूलरूप से मथुरा जिले की रहने वाली हैं।

दोनों परिवार के साथ तीन साल से कुलेसरा गांव में किराये पर रहती हैं, जबकि बंटी उनके पड़ोस में परिवार के साथ किराये पर रहता है। सूचना के बाद पीड़ित स्वजन जम्मू के लिए रवाना हो गए हैं। आतंकी हमले में गोली लगने से घायल बंटी गुप्ता मूलरूप से वाराणसी का रहने वाला है व माता-पिता व भाई-बहन के साथ किराये पर कमरा लेकर कुलेसरा गांव में रहता है।

वर्ष 2019 में हुई बंटी की शादी

वह हल्दोनी मोड़ पर मोमोज की दुकान लगाता है। बंटी की 2019 में शादी हुई है। एक महीने से उसकी पत्नी दो साल की बच्ची के साथ वाराणसी में अपने मायके में है। पीड़ित स्वजन ने बताया कि परिवार के पुरुष सदस्यों को रात में ही हादसे की जानकारी मिल गई थी।

अखबार में देखा फोटो तो सुध खो बैठी मां

सुबह पड़ोसियों ने जागरण में आतंकी हमले में बंटी के घायल होने की खबर के साथ फोटो देखी तो परिवार के अन्य सदस्यों को भी घटना का पता चल गया। अखबार में बंटी का फोटो देख मां मुन्नी देवी सुध खो बैठीं।

पुलिस पूरी रात घायलों के परिवारों का पता छानती रही। किरायेदार होने की वजह से पुलिस को पता ढूंढने में खासी मशक्कत करनी पड़ी। देर रात तकरीबन 12 बजे पुलिस का घायलों के परिवार से संपर्क हो सका। पुलिस ने जैसे ही जम्मू में हुए आतंकी हमले में तीनों के घायल होने की जानकारी दी तो स्वजन की सांस अटक गई। मीरा व लक्ष्मी जिस मकान में रहती हैं, उस पर ताला लटका है।

परिवार जम्मू के लिए रवाना

मकान मालकिन संगीता ने बताया कि मीरा व लक्ष्मी रिश्ते में देवरानी जेठानी हैं। लक्ष्मी के पति की मौत हो चुकी है। उसके दो बच्चे हैं जो गर्मियों की छुट्टी में अपने गांव गए हैं। मीरा के पति रोहित पर ही परिवार की जिम्मेदारी है। रोहित ग्रेटर नोएडा की एक फैक्ट्री में काम करता है।

रोहित के साथ बंटी के पिता पार्श्वनाथ व भाई कुशल गुप्ता पड़ोसी व सगे संबंधियों के साथ जम्मू के लिए रवाना हो गए हैं। बंटी के पिता पार्श्वनाथ गुप्ता ने बताया कि बंटी से सुबह फोन पर बात हुई है। उसने बताया कि आपरेशन के बाद गोली निकाल दी गई है। लक्ष्मी अभी भी आइसीयू में है। जबकि मीरा की हालत खतरे से बाहर है।

मदद के लिए प्रशासन ने स्थापित किया कंट्रोल रूम

जम्मू कश्मीर में हुए आतंकी हमले में घायल श्रद्धालुओं की सहायता के लिए जिला प्रशासन ने कंट्रोल रूम स्थापित कर दिया है। जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने बताया कि इमरजेंसी आपरेशन सेंटर (कंट्रोल रूम) के दूरभाष नंबर 01202978231, 01202978232 व 01202978233 पर कॉल कर संपर्क किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि घायलों के उपचार के साथ उन्हें सकुशल वापस लाने के लिए अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) की अध्यक्षता में एक टीम जम्मू के लिए रवाना कर दी गई है।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.