Move to Jagran APP

नोएडा को मिलेगा साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ, अपराधियों पर लगेगी लगाम

जिले में बढ़ रहे साइबर अपराध के मामलों की विवेचनाओं में तेजी लाने के लिए जिले को जल्द स्थायी तौर पर साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ मिल सकता है। इन विशेषज्ञ की भूमिका मुकदमा दर्ज होने से लेकर कोर्ट में मुकदमे का निस्तारण तक होगी। इससे न केवल साइबर अपराधियों तक पहुंचने में मदद मिलेगी बल्कि उन्हें सजा दिलाने में भी अहम भूमिका होगी।

By Gaurav Sharma Edited By: Abhishek Tiwari Published: Mon, 10 Jun 2024 10:54 AM (IST)Updated: Mon, 10 Jun 2024 10:54 AM (IST)
नोएडा को मिलेगा साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ, अपराधियों पर लगेगी लगाम

गौरव भारद्वाज, जागरण नोएडा। जिले में बढ़ रहे साइबर अपराध के मामलों की विवेचनाओं में तेजी लाने के लिए जिले को जल्द स्थायी तौर पर साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ मिल सकता है। इन विशेषज्ञ की भूमिका मुकदमा दर्ज होने से लेकर कोर्ट में मुकदमे का निस्तारण तक होगी। इससे न केवल साइबर अपराधियों तक पहुंचने में मदद मिलेगी, बल्कि उन्हें सजा दिलाने में भी अहम भूमिका होगी।

इसके लिए गौतमबुद्ध नगर की पुलिस आयुक्त लक्ष्मी सिंह ने शासन को पत्र लिखा है। क्योंकि वर्तमान में कस्टमर केयर फ्रॉड, पेंशन फ्रॉड, बिजली बिल फ्रॉड, वर्क फ्राम होम फ्रॉड, सेक्स्टार्सन फ्रॉड, लोन एप फ्रॉड, पार्सल फ्रॉड, फ्रेंचाइजी फ्रॉड, फेक बेटिंग एप, क्रिप्टो इन्वेस्टमेंट फ्रॉड के मामले देखने को मिल रहे हैं।

यही कारण है कि बड़ी संख्या में साइबर अपराध के मुकदमों की विवेचना लंबित चल रही हैं। मौजूदा समय में साइबर सेल में तैनात पुलिसकर्मी साइबर अपराधियों की तुलना में उतने दक्ष नहीं हैं। साइबर विशेषज्ञ की तैनाती से न केवल पुलिसकर्मियों में दक्षता बढ़ेगी, बल्कि विवेचनाओं के निस्तारण में भी तेजी आएगी।

डिजिटल साक्ष्य संग्रह करना

साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञों को कंप्यूटर, मोबाइल डिवाइस, सर्वर और आनलाइन प्लेटफार्म सहित विभिन्न स्रोतों से डिजिटल साक्ष्य एकत्र करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। वे फोरेंसिक रूप से सही तरीके से डिजिटल साक्ष्य प्राप्त करने के लिए विशेष साफ्टवेयर और तकनीकों का उपयोग करते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि कानूनी कार्यवाही में उपयोग के लिए साक्ष्य की अखंडता को संरक्षित किया जाता है।

डेटा रिकवरी और विश्लेषण साइबर

फोरेंसिक विशेषज्ञ साइबर अपराध से संबंधित प्रासंगिक जानकारी को उजागर करने के लिए जांच के दौरान एकत्र किए गए डिजिटल साक्ष्य का विश्लेषण करते हैं। इसमें हटाई गई फाइलों से डेटा रिकवरी, सिस्टम लाग की जांच, नेटवर्क ट्रैफिक का विश्लेषण और साइबर अपराधियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले तरीकों की पहचान करने और घटनाओं के अनुक्रम को स्थापित करने के लिए डिजिटल कलाकृतियों का पुनर्निर्माण शामिल हो सकता है।

मैलवेयर विश्लेषण

मैलवेयर या दुर्भावनापूर्ण साफ्टवेयर से जुड़े मामलों में, साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ मैलवेयर के कोड और व्यवहार का विश्लेषण करते हैं ताकि इसकी कार्यक्षमता, प्रसार के तरीके और प्रभावित सिस्टम पर इसके प्रभाव को समझा जा सके।

मैलवेयर विश्लेषण जांचकर्ताओं को हमले के स्रोत की पहचान करने, साइबर अपराधियों की गतिविधियों को ट्रैक करने और खतरे को कम करने के लिए जवाबी उपाय विकसित करने में मदद करता है।

नेटवर्क फोरेंसिक साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ

नेटवर्क आधारित हमलों, डेटा उल्लंघनों या सिस्टम तक अनधिकृत पहुंच से जुड़े साइबर अपराधों की जांच करने के लिए नेटवर्क फोरेंसिक का संचालन करते हैं। वे नेटवर्क ट्रैफिक, लाग और सिस्टम कांन्फिगरेशन का विश्लेषण करते हैं ताकि नेटवर्क के भीतर अनधिकृत गतिविधियों, सुरक्षा कमजोरियों और समझौता बिंदुओं की पहचान की जा सके।

विशेषज्ञ की गवाही

साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ अपनी जांच के निष्कर्षों को समझाने, डिजिटल साक्ष्य को प्रमाणित करने और साइबर अपराधों से संबंधित जटिल तकनीकी मुद्दों को समझने में अदालत की सहायता करने के लिए अदालती कार्यवाही में विशेषज्ञ गवाही दे सकते हैं। उनकी गवाही डिजिटल साक्ष्य की विश्वसनीयता स्थापित करने और साइबर अपराधियों के खिलाफ अभियोजन पक्ष के मामले को मजबूत करने में मदद करती है।

अभी तक परामर्श से चल रहा काम

साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ साइबर सुरक्षा, डिजिटल फोरेंसिक और घटना प्रतिक्रिया से संबंधित मामलों पर कानून प्रवर्तन एजेंसियों, सरकारी संगठनों, व्यवसायों और व्यक्तियों को सलाह और परामर्श सेवाएं प्रदान करते हैं। वर्तमान में जिले की साइबर सेल के पुलिसकर्मी साइबर विशेषज्ञों से परामर्श लेकर अपराधियों तक पहुंच रहे हैं।

साइबर अपराधियों पर लगेगी लगाम

जिले में साइबर फोरेंसिक विशेषज्ञ की स्थायी तैनाती के लिए शासन को पत्र लिखा है। ये विशेषज्ञ न केवल प्राथमिकता पर गुणवत्तापूर्वक विवेचनाओं का निस्तारण कराएंगे, बल्कि मजबूत साक्ष्यों के साथ आरोप पत्र न्यायालय में दाखिल कराएंगे। ताकि साइबर अपराधियों को कठोर सजा दिलाई जा सके।

-लक्ष्मी सिंह, पुलिस आयुक्त, गौतमबुद्ध नगर


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.