Move to Jagran APP

31 मार्च तक नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेस-वे की रिसरफेसिंग की डेडलाइन तय, CS इंफ्रा पर लगाया गया 1 करोड़ का जुर्माना

नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे की रिसरफेसिंग करने वाली सीएस इंफ्रा कंपनी को प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने एक करोड़ का जुर्माना लगाकर अल्टीमेटम दिया है कि 31 मार्च तक कंपनी कार्य पूरा करे। अन्यथा कंपनी ब्लैकलिस्ट किया जाए।

By Kundan TiwariEdited By: Abhi MalviyaPublished: Tue, 28 Mar 2023 09:49 PM (IST)Updated: Tue, 28 Mar 2023 09:49 PM (IST)
चार करोड़ 27 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है।

नोएडा, जागरण संवाददाता। नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे की रिसरफेसिंग करने वाली सीएस इंफ्रा कंपनी को प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने एक करोड़ का जुर्माना लगाकर अल्टीमेटम दिया है कि 31 मार्च तक कंपनी कार्य पूरा करे। अन्यथा कंपनी ब्लैकलिस्ट किया जाए। इस जुर्माने के साथ कंपनी पर अब तक काम पूरा नहीं कर पाने में अब तक चार करोड़ 27 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है।

इस दौरान कंपनी को 14 डेटलाइन भी मिली। फिर भी कंपनी की ओर से काम पूरा नहीं किया जा सका। हालांकि कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर मनोज कुमार ने दावा किया है कि वह हर हाल में 31 मार्च तक कार्य को पूरा कर लेंगे, क्योंकि अब महज 1.3 किलोमीटर का कार्य शेष बचा है।

एक्सप्रेस-वे मार्किंग के लिए अतिरिक्त मशीनों को लगाया गया है। उन्होंने आरोप भी लगाया कि जिस कंसलटेंट कंपनी ने छह में कार्य पूरा करने की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की। उसने सही तरीके से अध्ययन नहीं किया, उसे एसएमए तकनीकी के बारे में बिलकुल जानकारी नहीं रही होगी।

अन्यथा वह छह में कार्य पूरा करने की कार्ययोजना तैयार नहीं करती। बता दें कि नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी ने बृहस्पतिवार को शहर का निरीक्षण किया था, जिसमें एक्सप्रेस-वे की रिसरफेसिंग को लेकर असंतुष्ट रही। शुक्रवार को कंपनी पर कार्रवाई का आदेश वर्क सर्किल को दिया था।

इसके बाद वर्क सर्किल ने जुर्माने का प्रस्ताव तैयार कर मुख्य कार्यपालक अधिकारी के पास भेजा। जिस पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाने और 31 मार्च तक एक्सप्रेस-वे का कार्य पूरा करने का आदेश जारी किया।

जनवरी 2021 में काम हुआ था आवंटित

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे की रिसरफेसिंग का काम छह माह में पूरा किया जाना था। उसको दो वर्ष बाद भी पूरा नहीं किया जा सका है। जनवरी 2021 में नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेस-वे की रिसरफेसिंग का काम शुरू। दो जून 2021 तक पूरा होना था लेकिन अभी तक काम पूरा नहीं हाे सका।

यह रही डेटलाइन

-02 जून 2021

-30 जून 2021

-31 जुलाई 2021

-30 सितंबर 2021

-31 दिसंबर 2021

-30 जनवरी 2022

-31 मार्च 2022

- 30 अप्रैल 2022

-30 जून 2022

-30 सितंबर 2022

-30 नवंबर 2022

-20 दिसंबर 2022

-31 जनवरी 2023

मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने कही ये बात

समय पर काम पूरा नहीं कर पाने की स्थिति में कंपनी पर जुर्माना लगाया गया है। साथ ही ठीक तरीके से मानिटरिंग नहीं करने पर वर्क सर्किल प्रभारी को प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई है।

-रितु माहेश्वरी, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, नोएडा प्राधिकरण


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.