जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : खोदना खुर्द गांव के समीप डं¨पग ग्राउंड बनाए जाने के विरोध में ग्रामीणों ने जिला प्रशासन व प्राधिकरण अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों के विरोध को देखते हुए डं¨पग ग्राउंड के लिए चिह्नित स्थल पर सोमवार को कूड़ा डालना तो दूर अधिकारी वहां जाने की हिम्मत भी नहीं जुटा सके। ग्रामीणों ने सख्त चेतावनी दी है कि खोदना खुर्द तो दूर नोएडा के कूड़े को ग्रेटर नोएडा के किसी भी कोने में नहीं डालने दिया जाएगा।

विफल रही जिलाधिकारी की ग्रामीणों से वार्ता

कलक्ट्रेट में ग्रामीणों के प्रतिनिधि मंडल ने जिलाधिकारी बीएन ¨सह से मुलाकात की। ग्रामीणों ने दो टूक कहा कि नोएडा सेक्टर 123 व अस्तौली गांव में पिछले कई वर्षों से डं¨पग ग्राउंड के लिए जमीन चिन्हित है। यदि वहां डं¨पग ग्राउंड बनने से लोग बीमार हो सकते हैं, तो यहां भी होंगे। अखिल भारतीय गुर्जर परिषद के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट र¨वद्र भाटी, व पर्यावरणविद विक्रांत तोंगड़ ने कहा कि हम किसी भी कीमत पर यहां डं¨पग ग्राउंड नहीं बनने देंगे। यदि प्राधिकरण अथवा प्रशासन ने सख्ती की तो हमें भी अपने हक के लिए सड़कों पर उतरना पड़ेगा। जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपने के दौरान डॉ रूपेश वर्मा, राजेंद्र नागर, धर्मपाल प्रधान, बीरमपाल, बीर ¨सह खारी, सुदेश प्रधान, सुखवीर आर्य, विकास तोंगड़, महेश भाटी, सागर खारी, पहलवान अमित भाटी व मोनू गुर्जर आदि ग्रामीण मौजूद रहे।

लुभावने प्रलोभन का ग्रामीणों पर नहीं दिखा असर

डं¨पग ग्राउंड के आसपास के गांवों को मॉडल गांव बनाए जाने, सरकारी सुविधाओं का लाभ ग्रामीणों को देने व युवाओं के प्राइवेट सेक्टर में नौकरी समेत विशेष पैकेज के साथ विकास कराने के जिलाधिकारी द्वारा ग्रामीणों को दिखाए गए सब्जबाग को ग्रामीणों ने नकार दिया है। जिलाधिकारी से हुई वार्ता के दौरान ग्रामीणों ने कहा कि हमें विकास से पहले स्वच्छ वातावरण चाहिए। दिन भर जारी रहा धरना, अधिकारियों ने बनाकर रखी दूरी

ग्रामीण पूरे दिन अस्थायी डं¨पग ग्राउंड के लिए चिन्हित स्थल पर धरना देकर बैठे रहे। धरने पर बैठे ग्रामीणों के तेवर देख प्राधिकरण व प्रशासनिक अधिकारियों ने धरना स्थल से दूरी बनाए रखना ही मुनासिब समझा। दरअसल खोदना खुर्द गांव के समीप अस्थायी डं¨पग ग्राउंड में जिला प्रशासन ने सोमवार को कूड़ा डालने का ऐलान किया था। इसके बाद ग्रामीणों ने सतर्कता दिखाते हुए उग्र आंदोलन की तैयारी कर ली थी। ग्रामीणों ने डं¨पग ग्राउंड बनाने वाली जगह पर टेंट लगाकर रात भर पहरा दिया। ग्रामीणों के मुताबिक ग्रामीणों का युवा दल जहां रात में डं¨पग ग्राउंड की पहरेदारी करेगा। वहीं बुजुर्गों के साथ आसपास के गांवों से आने वाले लोग सुबह से लेकर शाम तक धरना देकर बैठेंगे। जबकि कुछ लोगों को गांव-गांव जाकर आंदोलन को मजबूत करने के लिए जनजागरण अभियान चलाने की जिम्मेदारी दी गई है। धरने से अभी बच्चों व महिलाओं को दूर रखा गया है। पहले चरण में 14 गांवों में पंचायत कर लोगों को आंदोलन से जोड़ा जाएगा। इन गांवों में तिलपता, खेड़ी भनौता, सैनी, सुनपुरा, श्योराजपुर, तुस्याना, रोजा जलालपुर, देवला आदि गांव शामिल है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस