ग्रेटर नोएडा, धर्मेंद्र चंदेल। कुख्यात हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को लेकर गौतमबुध नगर में हाई अलर्ट जारी किया गया है। पुलिस का मानना है कि कहीं विकास दुबे फरीदाबाद से निकलकर ग्रेटर नोएडा में आकर आत्म समर्पण न करे दे। इसलिए सूरजपुर जिला कोर्ट में आने वाले लोगों का मास्क हटवाकर चेहरा देखा जा रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार, कोर्ट के बाहर पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई है। नोएडा-ग्रेटर नोएडा में पुलिस को सतर्क कर दिया गया है। संदिग्ध लोगों की तलाश

पुलिस के हाथ से फिसला विकास दुबे

कानपुर एनकाउंटर के बाद से ही पुलिस कुख्यात विकास दुबे के पीछे पड़ी है। इस बीच वह मंगलवार को फरीदाबाद पुलिस की गिरफ्त में आते-आते बच गया। पुलिस को सूचना मिली थी कि वह बड़खल चौक स्थित ओयो होटल में छिपा है। इसी आधार पर होटल में छापेमारी की गई। पुलिस टीम ने होटल के एक-एक कमरे की बारीकी से तलाशी ली, लेकिन विकास वहां नहीं मिला। 

सीसीटीवी फुटेज में दिखा विकास दुबे!

इस बीच एक सीसीटीवी फुटेज सामने आयी है। जो फरीदाबाद के हरिनगर के पास स्थित एक रेस्टोरेंट के बाहर की है। इसमें बैग लिए एक शख्स दिखाई दे रहा है। वह मास्क भी पहना है। पुलिस को शक है कि सीसीटीवी में दिख रहा शख्स विकास दुबे ही है। फिलहाल सीसीटीवी को लेकर पुलिस जांच कर रही है।

विकास के सहयोगी गिरफ्तार

विकास दुबे के साथी प्रभात से फरीदाबाद पुलिस ने तीन पिस्टल बरामद की हैं। इनमे दो पिस्टल यूपी पुलिस की और एक विकास की है। पुलिस ने प्रभात, अंकुर और अंकुर के पिता श्रवण की गिरफ़्तारी की पुष्टि की है। उनके खिलाफ खेरी पुल थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। 

रिश्तेदार के पास ठहरा था विकास दुबे

सूत्रों के मुताबिक इंदिरा एंकलेव में विकास दुबे का रिश्तेदार अंकुर रहता है। विकास पहले अंकुर के पास ठहरा था। बाद में उसके लिए ओयो होटल में ठहरने की व्यवस्था की। पुलिस को इंदिरा एंकलेव से ही क्लू लगा था। इसके बाद अंकुर को हिरासत में लिया गया। अंकुर से मिली सूचना के बाद होटल में छापेमारी की गई लेकिन विकास पुलिस के हाथ नही लगा। वह फरार हो चुका था। 

बता दें कि कानपुर में विकास दुबे को पकड़ने गए पुलिस टीम पर बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाई थी। गोली लगने से सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद से विकास दुबे फरार है। पुलिस ने उस पर पांच लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया है।

Edited By: Mangal Yadav