जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ओमीक्रान सेक्टर स्थित सुपरटेक की जार सोसायटी में फ्लोर एरिया रेसियो (एफएआर) से अधिक फ्लैट बनाने के मामले फिर से उठा है। सोसायटी वासियों ने इसकी शिकायत हाई कोर्ट से की थी। लोगों का आरोप था कि प्राधिकरण निष्पक्ष कार्रवाई नहीं कर रहा है। हाई कोर्ट ने प्राधिकरण सीईओ को दोनों पक्षों के साथ सुनवाई कर मामले को निस्तारित करने के निर्देश दिए थे। सोमवार को प्राधिकरण सीईओ ने बिल्डर और सोसायटी में रहने वाले लोगों को बुलाकर मामले में सुनवाई की। एक सप्ताह के अंदर सीईओ अपना फैसला सुनाएंगे।

सोसायटी के लोगों का आरोप है कि बिल्डर ने जनसुविधा के लिए आरक्षित जमीन पर अतिरिक्त टावर खड़े कर एक हजार से अधिक फ्लैट बना दिए। वहीं बिल्डर का कहना है कि तत्कालीन प्रदेश सरकार ने एनसीआर में जमीन की कमी के कारण कम जगह में अधिक लोगों को घर देने के उद्देश्य से एफएआर खरीदकर अधिक फ्लैट बनाने का प्रावधान किया था। प्राधिकरण से एफएआर खरीदने के लिए आवेदन किया जा चुका है। प्राधिकरण सीईओ ने दोनों का पक्ष सुनने के बाद अपना निर्णय सुरक्षित रख लिया। वहीं दूसरी तरफ फ्लैट खरीदारों का प्रतिनिधिमंडल एसीईओ बीके त्रिपाठी से भी मिला। उन्होंने सोसायटी के अंदर जन सुविधा न होने व अव्यवस्था की बात की। प्राधिकरण से आग्रह किया गया कि मामले में हस्तक्षेप कर लोगों की समस्याओं का समाधान कराया जाए।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस