जागरण संवाददाता, ग्रेटर नोएडा : ग्रेटर नोएडा वेस्ट की लारेजिडेंसिया सोसायटी में लिफ्ट खराब होने का मामला प्रकाश में आया है। जिस समय लिफ्ट खराब हुई उसमें घरेलू सहायक के साथ दो बच्चे सवार थे। 20 मिनट तक बच्चे लिफ्ट में फंसे रहे। मौके पर पहुंचे मेंटीनेंस कर्मचारियों ने कड़ी मशक्कत के बाद तीनों को बाहर निकाला। सोसायटी की लिफ्ट में फंसने के दौरान बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। सोसायटी के लोगों ने बिल्डर प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए आक्रोश जताया है।

जानकारी के मुताबिक सुमिल जलोटा अपने परिवार के साथ लारेजिडेंसिया सोसायटी के टावर संख्या एक में रहते है। वे किसी काम से शनिवार को कानपुर गए हुए थे। उनके दोनों बच्चें अतीक्ष (7) व शुभ (4) रोजना सोसायटी के मैदान में क्रिकेट खेलने के लिए जाते है। सुमिल के घर पर न होने की वजह से दोनों घरेलू सहायक के साथ मैदान जाने के लिए लिफ्ट में सवार हुए। इसके कुछ देर बाद बिजली आपूर्ति बाधित हो गई और लिफ्ट बीच में ही रुक गई। जिसके बाद मेंटीनेंस प्रबंधन ने डीजी सिस्टम भी चालू किया, लेकिन तकनीकी खामी की वजह से लिफ्ट नहीं चल पाई। करीब 10 मिनट तक फंसे रहने के बाद घरेलू सहायक ने लिफ्ट इसकी जानकारी बच्चों के परिजन को दी। इसके बाद पहुंचे मेंटीनेंस प्रबंधन के कर्मचारी करीब 20 मिनट बाद तीनों को लिफ्ट से बाहर निकालने में कामयाब हुए। सुमिल जलोटा ने बताया कि लिफ्ट में फंसे रहने के बाद दोनों बच्चों में भय व्याप्त हो गया है। बच्चे लिफ्ट में आने जाने से कतरा रहे है। उन्होंने बताया कि पूर्व में कई बार लिफ्ट में लोग फंस चुके है। पिछले सप्ताह ही उन्होंने व सोसायटी के लोगों ने लिफ्ट में तकनीकी खामी आने का हवाला देते हुए बिल्डर से शिकायत की थी। लेकिन बिल्डर मामले को लेकर संजीदा नहीं है। निवासियों में आक्रोश है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप