मनीष तिवारी, ग्रेटर नोएडा:

दोस्त की तबियत बहुत खराब है जल्दबाजी में निकल आया, बस थोड़ी दूर जाना था इसलिए हेलमेट नहीं लगाया, हमेशा लगता हूं पहली बार हेलमेट लगाना भूल गया, घर पर कोई इंतजार कर रहा था इसलिए गाड़ी ओवर स्पीड़ हो गई..पुलिस जांच के दौरान पकड़े जाने वाहन चालकों के द्वारा इस प्रकार के तमाम बहाने बनाए जाते हैं। लेकिन वह इस बात से अनभिज्ञ होते हैं कि यह बहाना एक दिन भारी पड़ सकता है। सड़क दुर्घटना में आप अपनी जान गवां सकते है। कुछ ऐसे भी होते हैं जो दुर्घटना में विकलांग होकर ¨जदगी भर उस पल व बहाने को कोसते रहते हैं। बहानों को छोड़ नियम का पालन करें, खूबसूरत ¨जदगी में और रंग भरे, खुश रहे और परिवार व दोस्तों को भी खुशी दें। यातायात नियमों का पालन न करने वालों को नुक्कड नाटक के माध्यम से मिरर थियेटर ग्रुप के सदस्यों ने जागरुकता का संदेश दिया।

नाटक के माध्यम से उन्होंने बताया दुर्घटना के जो तथ्य सामने आए हैं उसमें नियमों का उल्लंघन करने वालों में युवाओं की संख्या अधिक होती है। सड़क दुर्घटना में जो लोग मारे जाते हैं उसमें तीस फीसद युवा ही होते हैं। ज्यादातर युवा टशन, स्टाइल में कार व मोटर साइकिल चलाते हैं। बालों का स्टाइल खराब न हो इस लिए हेलमेट नहीं लगाते। रफ्तार में दूसरे से आगे निकलने की दीवानगी होती है। लेकिन जीवन में किसी दिन एक पल ऐसा आ जाता है सब खत्म हो जाता है। युवाओं के साथ ही टीम के सदस्यों ने सभी लोगों से अपील की है वकि वाहन चलाते समय नियमों का पालन अवश्य करें। लोगों को नियमों के पालन की शपथ भी दिलाई। टीम के फाउंडर व डायरेक्टर मोहित ने बताया अभी तक दिल्ली-एनसीआर में विभिन्न स्थानों पर नुक्कड़ नाटक के माध्यम से लोगों को जागरूक कर चुके हैं। हमारा प्रयास है कि जागरुकता के माध्यम से वाहन दुर्घटना में कमी लाना।

Posted By: Jagran