मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। शुकतीर्थ स्थित गौड़ीय मठ पहुंचीं साध्वी प्राची ने कहा कि श्रद्धा हत्‍याकांड ने हिंदुस्तान को दहला दिया है। देश की माताएं सोचने पर विवश हैं कि बेटियों को कैसे सुरक्षित रखा जाए। लव जेहाद एक सोची समझी साजिश है। उसी के तहत श्रद्धा के टुकड़े किए गए हैं। आज कभी फ्रिज, कभी बोरे व कभी सूटकेस में युवतियों के शव मिलते हैं। उसका कारण भी ढूंढना चाहिए। 

श्रद्धा ने वीरांगनाओं के बारे में जाना होता तो नहीं होते शरीर के टुकड़े 

साध्वी प्राची ने कहा युवतियों को भारतीय इतिहास की वीरांगनाओं के चरित्र के बारे में पढ़ना व जानना चाहिए। श्रद्धा ने यदि वीरांगनाओं के बारे में पढ़ा व जाना होता तो उसके शरीर के टुकड़े ना होते। युवा पीढ़ी को माता पिता से अच्छे संस्कार ग्रहण करने चाहिए तथा धार्मिक शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए। धर्म गुरुओं से भी अपील है कि वह तालियां बजाकर नृत्यांगना न बनाकर वीरांगना बनाएं। 

भारतीय नारी का इतिहास संघर्षशील व गौरवमयी 

भारतीय नारी का इतिहास संघर्षशील तथा गौरवमयी रहा है। हमें अपने इतिहास से सीखना है। जनसंख्या के बढ़ने से बेरोजगारी व भूखमरी की समस्या बढ़ती जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शीघ्र जनसंख्या कानून देश में लागू करें, जिससे वर्ग विशेष द्वारा बढ़ाई जा रही जनसंख्या पर रोक लग सके।

लिविंग रिलेशनशिप की आलोचना  

लिविंग रिलेशनशिप पर जो कानून हिंदुस्तान में आया है ये काला कानून है इसे सरकार को तुरंत वापिस लेना चाहिए। यह फ्रांस व जापान नही है। यह हिंदुस्तान है यहां वैवाहिक व्यवस्था है। जिसमें नव युगल को एक जिम्मेदारी मिलती है। शादी में सात जन्मों की कसम खाई जाती है। 

- - - - 

साध्वी प्राची कोर्ट में पेश, सात दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। जानसठ कोतवाली क्षेत्र के गांव कवाल में 27 अगस्त 2013 को सचिन, गौरव और शाहनवाज की हत्या के बाद जनपद में तनाव पैदा हो गया था। तनाव के चलते जनपद में धारा 144 लागू कर दी गई थी। इसके बाद 31 अगस्त को नंगला मंदौड इंटर कालेज में सचिन और गौरव की शोक सभा की गई थी। बिना अनुमति सभा करने पर सिखेड़ा थाने में पूर्व विधायक संगीत सोम, पूर्व सांसद कुंवर भारतेंद्र सिंह, पूर्व सांसद सोहनवीर, और साध्वी प्राची सहित 40 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

मामले की सुनवाई विशेष एमपी एमएलए कोर्ट में चल रही है। मंगलवार को कोर्ट में मामले की सुनवाई थी। इसके चलते साध्वी प्राची कोर्ट में पेश हुईं। उधर, अन्य आरोपितों की ओर से कोर्ट में हाजिरी माफी भेजी गई थी। मामले की अगली सुनवाई के लिए सात दिसंबर निर्धारित की गई है। 

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट