मुजफ्फरनगर, जेएनएन। बिना डॉक्टरी सलाह के नशीली दवाएं बेचने व प्रतिबंधित दवाओं की बिक्री के मामले में रविवार दोपहर दो अलग-अलग थानों की पुलिस ने जिला परिषद मार्केट में छापामारी की। एक मेडिकल एजेंसी स्वामी को प्रतिबंधित दवा बेचते रंगेहाथ पकड़ लिया। वहीं, दूसरे मामले में अंबाला से पहुंची पुलिस को आरोपी नहीं मिला। कई व्यापारी दुकानें बंद कर भाग निकले।

पिछले दिनों भौंराकलां थाना पुलिस ने सिसौली के एक मेडिकल स्टोर पर छापा मारकर नशीली दवाएं व इंजेक्शन बरामद किए थे। मेडिकल स्टोर संचालक की निशानदेही पर भौराकलां थाना पुलिस रविवार को सादे कपड़ों में जिला परिषद मार्केट पहुंची। पुलिस ने सिसौली में पकड़ी गई प्रतिबंधित दवाएं सप्लाई करने वाली मेडिकल एजेंसी जैन फार्मा पर पहुंचकर प्रतिबंधित दवा मांगी। वहां बैठे राजीव जैन ने जैसे ही दवा दी, पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया। व्यापारी पर आरोप है कि सिसौली में पकड़ी गईं नशीली दवाएं उनकी एजेंसी से ही सप्लाई होती हैं।

इसके कुछ देर बाद सिविल लाइन पुलिस के साथ अंबाला कैंट थाना पुलिस श्रीराम फार्मा के मालिक हिमांशु वर्मा की तलाश में पहुंच गई, लेकिन श्रीराम फार्मा सहित अन्य मेडिकल स्टोर बंद मिले।

सिविल लाइन थानाध्यक्ष समयपाल अत्री ने बताया कि अंबाला पुलिस श्रीराम फार्मा के मालिक हिमांशु वर्मा के वारंट पर पहुंची थी। हिमांशु पर आरोप है कि उन्होंने कैराना और अंबाला में बिना बिल के दवाओं की बिक्री की। पुलिस ने अंबाला से एक मेडिकल स्टोर संचालक को उठाया था, जिसने श्रीराम फार्मा से प्रतिबंधित दवा सप्लाई होने की जानकारी दी थी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप