मुजफ्फरनगर, संदीप चौधरी। चंद सिक्कों के लिए माफिया युवाओं के जीवन से खिलवाड़ करने से बाज नहीं आ रहे हैं। पुलिस जीरो ड्रग्स अभियान के तहत माफिया पर शिकंजा कस रही है, लेकिन माफिया बाज नहीं आ रहे हैं। यह पहला मामला नहीं है जब पुलिस ने नकली फूड सप्लीमेंट बनाने की फैक्ट्री का राजफाश किया है। इसे पहले भी पुलिस ने शहर में चल रही नकली फूड सप्लीमेंट बनाने की फैक्ट्री का राजफाश करते हुए लाखों का सामान बरामद किया था।

पुलिस की तमाम सख्ती के बाद भी माफिया बाज नहीं आ रहे हैं। पुलिस ने शहर कोतवाली क्षेत्र के किदवईनगर में चल रही नकली फूड सप्लीमेंट बनाने की फैक्ट्री का राजफाश किया है। बीते साल क्राइम ब्रांच और सिविल लाइन पुलिस ने घास मंडी में चल रही नकली फूड सप्लीमेंट बनाने की फैक्ट्री का राजफाश कर लाखों का सामान बरामद किया था। कई आरोपितों को पुलिस ने मौके से दबोचकर फैक्ट्री पर सील लगा दी थी। जिम और दुकानों से बरामद हुआ था प्रतिबंधित स्टेरायड

एसएसपी अभिषेक यादव के आदेश पर शहर के तीनों थानों की पुलिस ने जिम और फूड सप्लीमेंट की दुकानों पर छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान बड़े पैमाने पर प्रतिबंधित स्टेरायड बरामद किया गया था। छापेमारी के दौरान राजफाश हुआ था कि जिम संचालक पशुओं को देने वाला प्रतिबंधित स्टेरायड जिम में वर्कआउट करने वाले युवाओं को दे रहे हैं। छापेमारी के दौरान पशुओं को देने वाला स्टेरायड भी बरामद हुआ था। लाखों की नकली दवाई हुई थी बरामद

नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के शेरनगर में बड़े पैमाने पर नकली दवाई बनाने का राजफाश हुआ था। यहां से पुलिस ने बड़ी संख्या में नकली दवाई बरामद की थी। सिविल लाइन थानाक्षेत्र के महमूदनगर में भी नकली दवाइयों का जखीरा बरामद किया गया था। इतना ही नहीं कुछ दिन पूर्व डीएम के आदेश पर टीम ने जिला परिषद मार्केट में स्टाक की गई लाखों की एक्सपायरी दवाई का जखीरा बरामद किया था। कार्रवाई के बाद भी नहीं सुधर रहे हालात

एसएसपी ने नागरिकों के जीवन से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए हुए हैं। पुलिस ने नकली दवा, नशे का कारोबार करने वालों के खिलाफ अभियान छेड़ रखा है। पुलिस अभी तक नशा माफिया समेत कई लोगों की एक करोड़ से ज्यादा की संपत्ति कुर्क कर चुकी है। 25 आरोपितों के खिलाफ गैंगस्टर, 170 आरोपितों के खिलाफ गुंडाएक्ट और 60 से ज्यादा आरोपितों की हिस्ट्रीशीट खोल चुकी है। ये हुई बरामदगी

एसपी सिटी ने बताया कि फैक्ट्री से 11 बोरों में लगभग 2.65 कुंतल मेलटोडेक्सट्रिन पाउडर, 75 किलोग्राम डेक्सटरोज मोनोहाईड्रेट पाउडर, एक ड्रम अमीनो एसिड पाउडर, एक ड्रम हाइड्रेटप्रोटीन पाउडर, 64 डब्बे मिश्रित सप्लीमेट, एक बोरा खाली कैप्सूल, भारी मात्रा में टेबलेट और विभिन्न कंपनियों के इंजेक्शन, कैप्सूल भरने और रैपर लगाने की मशीन, सात बोरे नामी गिरामी देशी और विदेशी फूड सप्लीमेट कंपनियों के रैपर, 800 खाली डब्बे बरामद किए हैं।

Edited By: Jagran