मुजफ्फरनगर, जेएनएन। भारतीय किसान यूनियन ने मंगलवार को किसानों पर जुर्माना लगाने के विरोध में क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कार्यालय में तालाबंदी कर हंगामा प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को किसानों के खेत और ट्रैक्टर ही प्रदूषण करते नजर आते हैं जबकि जनपद में औधोगिक इकाइयां रबड़ पॉलिथीन कोर प्रतिबंधित ईंधन जला रही हैं। इन पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है।

किसानों का किया जा रहा शोषण

मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष धीरज लटियाल के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने रेलवे रोड स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के कार्यालय पर प्रदर्शन किया। इस दौरान विभागीय अधिकारी और कर्मचारियों को बाहर निकाल कर दफ्तरों में तालाबंदी कर दी। भाकियू जिलाध्यक्ष ने कहा कि अधिकारी सेटेलाइट से खेतों में पत्ती-पराली जलाने की घटना को वाच कर रहे हैं। लेकिन जनपद में प्रदूषण का असल कारक बनी औद्योगिक इकाइयों पर नजर नहीं है। किसानों पर जुर्माना लगाकर शोषण किया जा रहा है।

पहले दिया जाए नोटिस

जिलाध्यक्ष ने कहा कि प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को किसानों पर कार्रवाई करनी है तो इसके लिए पहले उन्हें नोटिस दिया जाए। उसके बाद जुर्माना लगाया जाए। करीब 3 घंटे तक कार्यकर्ताओं ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पर कब्जा के रखा। हंगामे की खबर के बाद मौके पर पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट अतुल कुमार को ज्ञापन देकर न्याय दिलाए जाने की मांग की है। 

Posted By: Prem Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप