मुजफ्फरनगर, जेएनएन। 15 साल पुराने वाहनों को प्रतिबंधित करने के विरोध में सोमवार को रालोद कार्यकर्ताओं ने एआरटीओ का घेराव किया। उन्होंने कहा कि यदि ट्रैक्टर समेत कृषि यंत्रों रोकने का प्रयास किया तो उग्र आंदोलन होगा।

रालोद जिलाध्यक्ष अजीत राठी ने कहा कि चुनाव के समय सत्ताधारी नेताओं ने कहा था कि ट्रैक्टर समेत कृषि यंत्रों को एनजीटी के आदेश से बाहर किया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पुराने वाहनों की धरपकड़ का कार्य विभाग ने शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि किसान अपने ट्रैक्टरों को बड़ी हिफाजत से रखता है। 15 साल में किसानों के वाहनों का कुछ नहीं बिगड़ा है। एनजीटी के नियमों के तहत यदि किसान 15 साल में ट्रैक्टर बदलेगा तो बर्बाद हो जाएगा। वैसे भी किसानों की आय घट रही है और लागत बढ़ती जा रही है। किसानों के वाहनों को प्रशासन ने रोकने का प्रयास किया तो रालोद सड़कों पर उतरकर आंदोलन करेगा। एआरटीओ प्रशासन राजीव कुमार बंसल ने कृषि यंत्रों को नहीं रोकने का आश्वासन दिया। इस दौरान सुधीर भारतीय, विदित मलिक, कृष्णपाल राठी, हर्ष राठी, जगपाल सिंह, रविद्र, सादाब अली, विकास कादियान आदि मौजूद रहे।

बीमा प्रीमियम काटने का विरोध

रालोद कार्यकर्ताओं ने सोमवार को एक बैंक शाखा पर प्रदर्शन किया। रालोद ब्लॉक अध्यक्ष उदयवीर पचेंडा ने कहा कि फसल बीमा के नाम पर किसानों के बैंक खाते से 1100 रुपये की कटौती की जा रही है। मांग की कि इसे बंद किया जाए।-जासं

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस