मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। नेत्र कमजोर वाले चालक रोडवेज की बसों को चला रहे हैं। नेत्र परीक्षण में खुलासा होने के बाद आठ चालकों को ड्यूटी से हटा द‍िया गया है। उन्‍हें आगे इलाज कराने के लिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत मुरादाबाद बस डिपो के अड्डे पर नेत्र और स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें 30 से अधिक चालकों का नेत्र परीक्षण किया गया था। इसमें आठ चालकों में दृष्टि दोष पाया है। इन चालकों को दूर की वस्तुओं को देखने में परेशानी होती है। नेत्र परीक्षण करने आए जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने सलाह दी क‍ि तत्काल इन चालकों से बसों का संचालन बंद करवा दें। इन्‍हें ज‍िला अस्पताल भेज दें, आंखों की जांच कर इलाज किया जाएगा। रोडवेज प्रबंधन ने तत्काल आठ चालकों को ड्यूटी से हटाकर इलाज कराने का आदेश दिया है। इसके अलावा 22 चालक और परिचालकों की आंखों में मामूली कमी पाई गई। उनके चश्‍मे का नंबर बदलने की सलाह दी गई। सभी का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया गया। शिविर में 30 चालकों का कोरोना की जांच के लिए नमूने भी लिए गए हैं। इसके अलावा परिवहन विभाग व ट्रैफिक पुलिस ने सड़क के किनारे वाहनों को खड़ा करने को लेकर जांच की। टीम ने वाहन चालकों को सड़क के किनारे के स्थान पर ढाबे की पार्किंग स्थल पर खड़ा करने के बारे में जानकारी दी और कई वाहन चालकों का चालन भी किया गया। परीक्षण करने में चिकित्सक डा. अमित अम्बेडकर, डा. शुजम, राहुल वर्मा, कुलदीप कुमार की टीम शामिल थे। इस अवसर पर एआरएम (मुरादाबाद डिपो) संदीप कुमार नायक, एआरटीओ (प्रशासन) छवि सिंह, अनिल कुमार, एआरएम (पीतल नगरी) शिव बालक, एके सिंह, लोकश कुमार शर्मा, कपिल रस्तोगी प्रमुख रुप से उपस्थित थे। इस समय यातायात पु‍लिस भी वाहन चालकों को जागरूक करने का काम कर रही है। 

Edited By: Narendra Kumar