मुरादाबाद, जेएनएन। Murder in Love Affair : डिलारी थाना क्षेत्र में प्रेम प्रसंग के चलते ट्रक चालक की गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में पुलिस ने हत्यारोपित दोनों सगे भाईयों को गिरफ्तार कर घटना का पर्दाफाश कर दिया। दो अलग-अलग समुदाय का मामला होने के कारण गांव में तनाव व्याप्त था। शुक्रवार को ग्रामीणों ने थाने का घेराव करके प्रदर्शन किया था। इस दौरान पूछताछ के लिए बुलाए गए कुछ युवकों को छोड़ने के बाद ग्रामिणों ने प्रदर्शन किया था।

हालांकि पुलिस ने शाम को इस मामले में दोनों हत्यारोपित भाईयों को गिरफ्तार करने के साथ ही घटना का पर्दाफाश कर दिया। सीओ ठाकुरद्वारा डा.अनूप सिंह ने बताया कि पकड़े गए दोनों आरोपितों ने घटना को स्वीकार किया है। उनकी निशानदेही पर मृतक के जूते और मोबाइल फोन बरामद करने की कार्रवाई की गई। दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजने की कार्रवाई की जाएगी।

डिलारी थाना क्षेत्र के मासूमपुर गांव निवासी मोनू ट्रक चालक था। परिवार में पिता जगत सिंह के साथ ही मां प्रेमवती, भाई मोंटी व तीन बहनें कमलेश, कुसुम व नीतू हैं। मृतक के भाई मोंटी ने पुलिस को बताया कि उसके भाई मोनू गांव में ही एक दूसरे समुदाय की युवती से प्रेम करता था। जब इस बात की जानकारी युवती के भाईयों को हुई तो उन्होंने मोनू को हत्या करने की भी धमकी दी थी। बुधवार सुबह मोनू शौच करने के लिए के लिए जंगल गया था।

इसके बाद से वह लापता हो गया था। गुरूवार को गांव के बाहर छिद्दा के खेत में मोनू का शव मिला था। पुलिस ने मृतक के भाई मोंटी की तहरीर के आधार पर वसीम, नसीम, फैजाब और यामीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। शुक्रवार शाम को पुलिस ने आरोपित नसीम और उसके भाई वसीम को डिलारी थाना क्षेत्र के राजपुर केसरिया गांव की पुलिया के पास गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में दोनों युवक ने हत्या की बात को स्वीकार किया।

आरोपितों ने बताया कि बुधवार सुबह मोनू जंगल की ओर जा रहा था। उसी दौरान दोनों ने उसे रोकने के बाद पूछा की वह फोन पर किससे बात करा है। उस दौरान मोनू आरोपितों की बहन से बात करने की जानकारी दी। इसी बात को लेकर दोनों भाईयों को गुस्सा आ गया। मारपीट करने के बाद दोनों घसीटकर मोनू को गेहूं के खेत में ले गए। इसके बाद मोनू के मफलर से गला घोंटकर हत्या कर दी। पुलिस ने दोनों की निशानदेही पर जूते और मृतक का मोबाइल फोन भी बरामद कर लिया। सीओ ने बताया कि दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजने की कार्रवाई की जाएगी।

पूछताछ के लिए बुलाए गए संदिग्धों को छोड़ने का किया विरोधः शुक्रवार को डिलारी थाना पुलिस ने कुछ लोगों को पूछताछ के लिए थाने बुलाया था। पुलिस ने संदिग्धों को पूछताछ के बाद जब छोड़ दिया तो ग्रामीणों ने एकत्र होकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था। कुछ लोग थाने पहुंच और पुलिस की कार्रवाई का विरोध करते आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। इस दौरान डिलारी थाना प्रभारी ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत कर दिया।

मृतक के चचेरे भाई छत्रपाल ने आरोप लगाया कि पुलिस युवती के पिता यासीन और छोटा भाई फैजान का नाम जानबूझ कर निकाल दिया है। घटना के वक्त दोनों गांव में मौजूद थे। जबकि पुलिस पूछताछ में दोनों के गांव में न होने के साक्ष्य मिले हैं। पीड़ित पक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि मोनू के लगभग 1.45 लाख रुपए यासीन के पास थे। इसी के चलते उसने साजिश के तहत उसकी हत्या की है।

आपत्तिजनक फोटो देखकर दोनों ने हत्या की साजिश रचीः पुलिस की पूछताछ में पकड़े गए आरोपित नसीम और वसीम ने बताया कि वह लगातार मोनू को बहन से दूर रहने की हिदायत दे रहे थे। इसके बाद भी वह गांव में बहन के साथ ही उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहा था। कुछ आपत्तिजनक फोटो मोनू ने अपने मोबाइल में खीचें थे। इसके बाद वह गांव के लोगों को दिखाकर उनकी बहन को बदनाम करने की कोशिश कर रहा था। कुछ दिनों पहले ही दोनों को गांव के किसी व्यक्ति ने आपत्तिजनक फोटो दिखाए थे। इसके बाद दोनों भाईयों ने मिलकर हत्या करने के लिए सोच लिया था। आरोपित दोनों भाई तीन दिनों से मोनू का पीछा कर रहे थे। इस दौरान बुधवार को सुबह जंगल की ओर अकेले जाते हुए मोनू दिखाई पड़ गया था। जिसके नसीम और वसीम ने मिलकर मोनू का गला घोंटकर हत्या कर दी थी।

Edited By: Samanvay Pandey