अभी और भी बढ़ेंगी आजम की मुश्किलें 

रामपुर सांसद आजम खां के बेटे अब्दुल्ला आजम की विधायकी रद होने से उनकी मुश्किलें और बढ़ गई हैं। दरअसल, दो जन्म  प्रमाण पत्र होने के मामले में अब्दुल्ला के साथ ही आजम खां और उनकी पत्नी तजीन फात्मा के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज हो चुकी है, इसका मुकदमा अदालत में विचराधीन है। इस मामले में तीनों के खिलाफ गैरजमानती वारंट भी जारी हो चुके हैं। अब्दुल्ला ने जन्मतिथि सही ठहराने के चक्कर में दो पासपोर्ट और दो पैन कार्ड भी बनवाए। इन दोनों मामलों में भी अब्दुल्ला के खिलाफ मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इस तरह इन  मुकदमों पर भी हाईकोर्ट के फैसले का भी असर पड़ सकता है क्योंकि, हाईकोर्ट अब्दुल्ला की उम्र के विवाद को सही ठहरा चुका है। 

सम्‍भल में आखिर क्‍यों बंद की गई इंटरनेट सेवा, जानें क्‍या है वजह

सम्भल नगर पालिका के मैदान में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क के आह्वान पर जनसभा को लेकर पुलिस व प्रशासन सतर्क हो गया है। मंगलवार की सुबह पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने सम्भल शहर के विभिन्न मोहल्लों में खुद ही दौरा किया और चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तैनात कर दिया है। पीएसी जवानों को ऐहतियात के तौर पर बुला लिया गया है। डीएम अविनाश कृष्ण सिंह ने जनसभा पर रोक लगा दी है। 

अपहरण के बाद प्रेमी ने कर दी थी प्रेमिका की हत्या, अब पुलिस ने गिरफ्तार किया

रामपुर जनपद के थाना पटवाई पुलिस ने अपहरण के बाद प्रेमिका की हत्या के आरोपित को कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया। उधर, मृतका के परिजनों ने पुलिस की कार्यशैली को लेकर नाराजगी जताई। उनका कहना है कि इस हत्याकांड में और लोग भी शामिल हैं, जिन्हें पुलिस बचा रही है। थाना क्षेत्र के एक गांव की युवती 10 दिसंबर को गोबर फेंकने घर से बाहर गई थी। इसके बाद वह वापस नहीं लौटी। परिजनों ने उसकी काफी खोजबीन की लेकिन, उसका कहीं पता नहीं चला। परिजनों ने गांव के ही धर्मपाल के खिलाफ बेटी को बहला-फुसलाकर ले जाने का मुकदमा दर्ज करा दिया। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने युवती की हत्या करना स्वीकार किया।  

नशे में धुत डॉक्टर की कार ने ली थी बच्चे की जान, जानिए कैसे

मुरादाबाद के थाना मझोला के पास गागन नदी के पुल पर बिजनौर के नशे में धुत डॉक्टर ने मासूम बच्चे की जान ली थी वहीं, मासूम के माता-पिता जिंदगी की जंग लड़ रहे हैैं। उधर, डॉक्टर को बचाने के लिए पैरोकार पूरी रात लगे रहे। पैरवी की कि डॉक्टर के स्थान पर किसी अन्य का चालान कर दिया जाए लेकिन, मझोला पुलिस ने इन्कार कर दिया। रविवार को पाकबड़ा निवासी सीएल गुप्ता फर्म के सुपरवाइजर मदन सिंह पत्नी रेनू व चार साल के इकलौते बच्चे लकी के साथ ससुराल आए थे। देर रात तीनों बाइक से घर जा रहे थे।

 परिजनों को बेहोश कर किशोरी के साथ किया था दुष्कर्म, 12 साल कैद की सजा 

परिजनों को बेहोश कर किशोरी के साथ दुष्कर्म करने के मामले में अदालत ने दोषी को 12 साल कैद की सजा सुनाई है। उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। यह घटना बछरायूं थाना क्षेत्र के एक गांव की है। यहां रहने वाला व्यक्ति दिल्ली में मजदूरी करता है। उसकी पत्नी व बच्चे घर पर ही थे। 23 जून 2016 की रात गांव का ही अमित कुमार उनके घर आया था। उसने परिजनों को कोल्ड ड्रिंक में बेहोशी की दवाई पिलाकर सभी को सुला दिया था। पुलिस ने आरोपित को जेल भेज दिया था। विशेष न्यायाधीश (पॉक्सो एक्ट) राकेश कुमार चतुर्थ की अदालत ने सोमवार को सुनवाई करते हुए अमित कुमार को दोषी करार दिया। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस