रामपुर, जेएनएन। चरस की बड़ी खेप लेकर यहां आ रहे तीन नेपाली नागरिकों को सिविल लाइंस पुलिस ने एसटीएफ बरेली की मदद से पकड़ लिया। इनमें दो महिलाएं हैं। तीनों के पास से पुलिस टीम को 25 किलोग्राम चरस मिली है, जिसकी कीमत लाखों में है। बुधवार देर रात बरेली एसटीएफ की टीम सिविल लाइंस कोतवाली पहुंची। कोतवाल राधेश्याम को बताया कि  नेपाल से कुछ लोग चरस लेकर रामपुर आ रहे हैं। वे सभी नेपाल से पहले बरेली आए और वहां से रोडवेज बस से रामपुर पहुंचने वाले हैं। चरस की सप्लाई रामपुर में होनी है। इस पर सिविल लाइंस कोतवाल ने एसएसआइ सुभाष चंद्र यादव के नेतृत्व में टीम गठित कर रोडवेज की ओर रवाना कर दी। एसडीएम सदर प्रमोद कुमार को भी जानकारी देकर बुला लिया। एसटीएफ और सिविल लाइंस पुलिस की संयुक्त टीम ने वहां पहुंचकर जाल बिछा दिया। जैसे ही बरेली की दिशा से आई एक रोडवेज बस रुकी तो उसमें से तीन नेपाली नागरिक उतरे। उनमें दो महिलाएं और एक युवक था। तीनों के पास बैग थे। पुलिस टीम ने बस के जाते ही तीनों को पकड़ लिया। तीनों के बैग में तलाशी ली तो उसमें चरस के पैकेट मिले। पुलिस तीनों को कोतवाली ले आई। तीनों के बैग में एक-एक किलोग्राम के 25 पैकेट बरामद हुए। सिविल लाइंस कोतवाली प्रभारी राधेश्याम ने बताया कि पकड़े गए नेपाली नागरिकों में पार्वती उर्फ चम्पा पत्नी निवासी धनगढ़ी थाना जोशी रोड, गोमती थापा उर्फ गीता पत्नी प्रेम थापा निवासी डूंगरी थाना मारतड़ी जिला बाजुरा और किशोर पुत्र वीर बहादुर निवासी ग्राम खिखाला थाना चैनपुर जिला बजरंग हैं। पूछताछ में तीनों ने बताया कि यह माल नेपाल के धनगढ़ी से लेकर आए हैं, जिसे रामपुर में किसी फैय्याज नाम के व्यक्ति को देना था। उसका मोबाइल नंबर है। यहां पहुंचकर उसे फोन करके बुलाकर माल देते और रकम लेकर हमें वापस जाना था। इससे पहले पुलिस ने तीनों को पकड़ लिया। रामपुर में जिस व्यक्ति को माल देना था, उसका पता लगाया जा रहा है। फिलहाल तीनों के खिलाफ स्वापक औषधि और मन प्रभावी पदार्थ अधिनियम 1985 की धारा 8 व 20 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।

इतनी बड़ी मात्रा में चरस मिलने पर एलआइयू अलर्ट

जिले में नशीले पदार्थ की बिक्री के मामले पहले भी सामने आते रहे हैं, लेकिन यह पहला मौका है, जब पुलिस ने इतनी बड़ी मात्रा में चरस बरामद की है। माना जा रहा है कि जिले में नशे का कारोबार बढ़ता जा रहा है। सिविल लाइंस पुलिस द्वारा 25 किलोग्राम चरस पकड़े जाने की सूचना से स्थानीय खुफिया इकाई भी अलर्ट हो गई है। एलआइयू के अधिकारियों ने भी थाने जाकर पकड़े गए नेपाली नागरिकों से पूछताछ की। कैरियर निकले पकड़े गए नेपाली नागरिक पुलिस ने 25 किलोग्राम चरस के साथ जिन तीन नेपाली नागरिकों को पकड़ा है, वे दरअसल इस धंधे में मात्र कैरियर की भूमिका में हैं। 

11वीं का छात्र है पकड़ा गया युवक

चरस के साथ पुलिस के हाथ लगा नेपाली युवक का कहना है कि वह पहली बार यह काम कर रहा था। उसे नेपाल में अर्जुन नाम के एक व्यक्ति ने यह काम दिया था। तब उसे बताया था कि दोनों महिलाओं के साथ यह माल लेकर रामपुर जाना है। वहां दिए गए नंबर पर फोन करना था और उस व्यक्ति को माल देना था। इसके बदले में उसे वापस नेपाल जाने पर पांच हजार रुपये मिलते। वह बेहद गरीब है। उसके पिता का निधन हो चुका है। पांच हजार रुपये के लालच में वह इस काम के लिए तैयार हो गया था।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस