मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। शहर की हाट मिक्स सड़कों की हालत बनने के बाद भी खराब है। खराब गुणवत्ता और मौसम के अनुकूल सड़कों का निर्माण नहीं किया गया। जिससे यह सड़कें अब उखड़ने लगी हैं। नगर निगम के अफसरों को सड़कों का हाल देखने की फुर्सत नहीं है। रामगंगा विहार में दो साल से सड़कें गड्ढों में तब्दील थीं, तमाम हो हल्ला के बाद यहां की सड़कें बननी शुरू हुईं थी जो अब उखड़ने लगी हैं।

लापरवाही की हद देखिए कि 10 अक्टूबर को करीब 15 करोड़ रुपये की 29 हाट मिक्स सड़कों के टेंडर निकाले और 29 अक्टूबर को यह टेंडर खुले, कार्य आदेश जारी होने तक आधा नवंबर गुजरने के बाद सड़कों का निर्माण पूरी तरह शुरू नहीं हो पाया। जिससे सड़क बनने का अनुकूल मौसम खत्म होने के बाद दिसंबर में सड़कें बननी शुरू हुईं। जबकि हाट मिक्स सड़क बनाने में तारकोल का तापमान 150 से 160 डिग्री सेंटीग्रेट होना चाहिए। लेकिन, दिसंबर में तापमान 20 डिग्री से नीचे जाने के कारण तारकोल जल्दी ठंडा होने से सड़कों की बजरी उखड़ गई है। यही नहीं जिन सड़कों का पैचवर्क अक्टूबर में हुआ, वह भी उखड़ गईं। यह गुणवत्ता की कमी से हुआ है। लेकिन, अधिकारी न तो संबंधित ठेकेदार से इस सड़क की मरम्मत कराते हैं और न ही उन पर कोई कार्रवाई करते हैं।

केस-1 : साईं मंदिर और सोनकपुर स्टेडियम रोड पर पैच वर्क किया गया था। नौ लाख 26 हजार रुपये हाट मिक्स सड़क का पैचवर्क क‍िया गया। सोनकपुर स्टेडियम रोड पूरी तरह उखड़ चुका है। लेकिन, अफसरों ने इस सड़क को देखा तक नहीं। पैच वर्क की केवल यही सड़क नहीं अन्य सड़कों का भी यही हाल है।

केस-2- : वाणिज्य कर कार्यालय से टीडीआइ सिटी रोड पर गोयल मार्ट तक भी हाल ही में सड़क बनी है। यह सड़क 11 लाख 12 हजार रुपये से बनी लेकिन, यह अब उखड़ चुकी है। लेकिन, यहां भी नगर निगम ने आकर नहीं देखा।

केस-3 : प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक के मुख्यालय के सामने वाली सड़क की बजरी भी उखड़ चुकी है। यह सड़क करीब पांच लाख रुपये से बनी थी। एक महीने पहले बनी यह सड़क भी उखड़ चुकी है।

सड़कों की गुणवत्ता को चेक कराया जाएगा। संबंधित ठेकेदार व जेई से भी जवाब तलब किया जाएगा। लापरवाही पर कार्रवाई की जाएगी।

डीसी सचान, मुख्य अभियंता

 

Edited By: Narendra Kumar