मुरादाबाद : सड़क पर यदि आप पैदल, दोपहिया अथवा चार पहिया वाहन से चल रहे हैं, तो अत्यधिक सावधानी बरतें। जरा सी लापरवाही अथवा चूक न सिर्फ आपके बल्कि दूसरे की जान के लिए भी संकट बन सकती है। लगातार भयावह होती खौफनाक तस्वीर पैदल चलने वालों के साथ ही वाहन चालकों को भी सचेत करती है।

ट्रैफिक एसपी सतीश चंद्र के मुताबिक दुर्घटनाओं में मारे जाने वाले लोगों में पैदल चलने वालों की बड़ी संख्या होती है। इनमें भी अधिकांश 16 वर्ष से कम आयु के बच्चे शामिल हैं।

जरा इस पर भी नजर डालें

अल्कोहल बाधिता - ज्यादातर वयस्क राहगीरों की मौत शराब के सेवन से होती है। अल्कोहल के प्रभाव में होने पर वाहन चालक तत्काल निर्णय लेने की क्षमता खो देता है। ऐसे में दुर्भाग्यपूर्ण हादसे होते हैं।

वाहनों की अत्यधिक आवाजाही

शहर के भीतरी भाग में वाहनों की आवाजाही काफी ज्यादा है। पैदल राहगीरों की संख्या भी बढ़ी है। इस कारण पैदल राहगीरों को सड़क पार करने में वाहनों के बीच से बच-बच कर निकालना पड़ता है। मुरादाबाद की कुछ सड़कें इतनी संकरी हैं कि पैदल राहगीर अगल-बगल चलते हैं। ऐसे में राहगीरों के पीछे से आते वाहनों से टकराने का खतरा बना रहता है।

ट्रैफिक कानून का उल्लंघन

 तेज गति से चलते वाहन पैदल राहगीरों को कुचल सकते हैं। क्योंकि वाहन कि गति जैसे-जैसे तेज होती है, चालक को संभलने का समय भी कम होता जाता है। ऐसी स्थिति में टक्कर होने पर मौत होने की आशंका काफी ज्यादा होती है। सड़क पार करने में पैदल राहगीरों में अनुशासन की कमी होती है। ट्रैफिक की स्थिति की वह जरा भी परवाह नहीं करते। दौड़ कर सड़क पार करना खतरे को आमंत्रण देना है।

फुटपाथ पर चलें, सड़क पर नहीं

जहां फुटपाथ न हो वहां सामने से आने वाले ट्रैफिक की तरफ मुंह करके चलें। सामने से आपकी तरफ क्या आ रहा है, यह दिखेगा। चूंकि ट्रैफिक सड़क की बाएं ओर चलता है, इसलिए दाहिनी तरफ चलना चाहिए। ताकि आप वाहनों को देख सकें। आप वाहन चालकों को दिखाई दें, यह सुनिश्चत करें। खास तौर पर रात के समय। हल्के रंग के कपड़े पहनें, जैसे कि पीले और सफेद रंग के या फिर अपने कपड़ों पर रिफलेक्टर लगाएं। इससे रात के समय आसानी से दिखेंगे।

सड़क पार करते समय छह बिंदुओं का करें पालन

- सोचें कि सड़क पार करने का सुरक्षित स्थान क्या है?

-कहां से मैं सभी ट्रैफिक को ठीक से देख सकता हूँ?

- सुनिश्चित करें कि आप किसी खड़ी कार के पीछे छिपे नहीं हैं।

- जहां से आपने सड़क पार करने का फैसला किया है वहां सड़क के किनारे रुकें।

- सड़क के दोनों ओर कई बार देखें और सुनें, यह देखने के लिए कि कोई वाहन तो नहीं आ रहा।

- इंतजार करें, ट्रैफिक गुजर जाने का और सड़क साफ हो जाने का।

- सड़क एकदम सीधे पार करें।

देखते और सुनते रहें। सड़क पार करते वक्त जब तक आप दूसरी ओर न पहुंच जाएं, सभी तरफ देखते रहें

घटनाएं जो करती हैं सचेत

केस -1

महानगर के पीलीकोठी व फव्वारा तिराहे के बीच सोमवार शाम करीब साढ़े सात बजे 24 वर्षीय एक युवक सड़क पैदल पार करते वक्त अज्ञात वाहन की चपेट में आ गया। वाहन का पहिया उसके बाएं पैर पर चढ़ा था। पैर बुरी तरह क्षतिग्रस्त होने से घटना स्थल पर खून ही खून हो गया था। शरीर से खून का अत्यधिक स्राव होने के कारण जिला अस्पताल में उपचार के दौरान युवक की मौत हो गई।

केस-2

ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र में सोमवार को दादी के साथ दुकान पर गई सात वर्षीय एक बच्ची पैदल घर लौट रही थी। बाइक सवार ने बच्ची को पीछे से टक्कर मार दी। हादसे में बच्ची की मौत हो गई। दोनों घटनाएं पैदल राहगीरों को ही नहीं बल्कि वाहन चालकों को भी सचेत और आगाह करती हैं।

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप