रामपुर। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह  धौनी के संंन्यास के फैसले से नगर के क्रिकेट प्रेमी हैरान हैं। उनके इस फैसले से उन्हें बहुत मायूसी हुई है। उन सबका मानना है कि अभी धोनी में काफी क्रिकेट बाकी था। वह नामुमकिन को मुमकिन में बदल देते थे।

वह एकमात्र ऐसे कप्तान रहे, जिन्होंने भारत को तीन अंतरराष्ट्रीय खिताब दिलाए। उनके इस निर्णय को सबने क्रिकेट के लिए नुकसान बताया है। धौनी ने कई अहम मौकों पर टीम को जीत दिलवाई। जब तक धौनी होते कितना भी बड़ा स्कोर हो, भरोसा रहता था कि टीम मैच जीत जाएगी। अब इस खेल में हेलीकॉप्टर शॉट कम ही देखने को मिलेंगे।

-मुमताज खां, कप्तान, फाइन क्रिकेट क्लब

धौनी जैसा कप्तान जिसने भारत को व‌र्ल्ड कप सहित कई यादगार जीत दिलवाई। उन्होंने भारत की टीम को लक्ष्य का पीछा करना सिखाया तथा फिनिशर की अहम भूमिका निभाई। विकेटकीपर के तौर पर तो उनका कोई तोड़ ही नहीं था।

-शोभित भटनागर, कप्तान, सिटीजन क्लब

धौनी बहुत ही शांत खिलाड़ी रहे। व‌र्ल्ड के सबसे अच्छे विकेटकीपर में शुमार धोनी विकेट के पीछे रिव्यू लेने में काफी माहिर थे। उनके 95 प्रतिशत रिव्यू सफल हुए। भारत को जीत दिलाने में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। -विपिन यादव, कप्तान, यूपी पुलिस टीम रामपुर

धौनी ने तो भारतीय टीम का नक्शा ही बदल दिया। बतौर कप्तान उनकी उपलब्धियों को छू पाना किसी अन्य खिलाड़ी के लिए मुश्किल होगा। वह युवाओं के लिए सदैव प्रेरणास्त्रोत रहेंगे। उनके रिकॉर्ड अपने आप मे अदभुत हैं।

-संजय शर्मा, कोच, आशीष नेहरा क्रिकेट अकादमी

धौनी हमेशा निडर होकर फैसले लेते थे। कठिन मोर्चों पर वह स्वयं कमान संभालते थे। 2011 के व‌र्ल्ड कप के फाइनल में नंबर चार पर आकर उन्होंने जो बल्लेबाजी की, उसे हमेशा याद रखा जाएगा।

हितेश अग्रवाल बंटी , ऑलराउंडर 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस