रामपुर (भास्कर ङ्क्षसह)। लॉकडाउन में स्वयंसेवी संगठन बढ़चढ़कर मदद कर रहे हैं और गरीबों तक भोजन व उनकी जरूरत का सामान पहुंचा रहे हैं। आम आदमी की तरह ही बेजुबान जानवर भी परेशान हैं। उन्हें खाना नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में उनकी मदद को बानी एनिमल वेलफेयर सोसाइटी आगे आई है। सोसाइटी के अध्यक्ष हिफाजत अली बानी ने इस संबंध में प्रशासन से बात की। प्रशासन ने भी बेजुबानों के दर्द को समझा और उन्हें पास जारी कर दिए हैं। अब वह अपनी गाड़ी में खाने-पीने का सामान भरकर घूमते हैं और जहां भी कुत्ते, बिल्ली, बंदर आदि जानवर दिखाई देते हैं तो वहां गाड़ी रोककर खाना खिलाने लगते हैं। यह उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है। इस काम में उनकी दो टीमें लगी हैं। इनमें एक टीम तहसील सदर में काम कर रही है, जबकि दूसरी स्वार तहसील क्षेत्र में।

नौ साल से बेजुबानों के लिए काम कर रही सोसाइटी

खौद गांव निवासी हिफाजत अली बानी बताते हैं कि वर्ष 2011 में हमने बानी एनिमल वेलफेयर सोसाइटी का गठन किया था। यह सोसाइटी लावारिश पशु-पक्षियों की देखभाल करती है। चोट लगने पर उनका इलाज कराती है। लॉक डाउन का असर बेजुबान जानवरों पर भी पड़ रहा है। पहले लोग बचा हुआ खाना जानवरों को डाल देते थे, लेकिन अब लोगों के सामने खुद खाने-पीने का संकट आ गया है। ऐसे में बेजुबान भूखे मर सकते हैं। बड़ी संख्या में इनकी मौत होने पर बीमारी फैलने का खतरा बन सकता है। इसी ख्याल से हमने एनीमल वेलफेयर बोर्ड आफ इंडिया से संपर्क किया। इस समस्या की ओर ध्यान दिलाया। तब शासन ने सभी जिलों को बेजुबान जानवरों के खाने-पीने की व्यवस्था के निर्देश दिए। 

Posted By: Ravi Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस