मुरादाबाद, जेएनएन। सीएए के विरोध में मुरादाबाद, अमरोहा आदि जिलों में दुकानें बंद रहीं। एहतियात के तौर पर विभिन्न जगहों पर पुलिस की तैनाती की गई है। मुरादाबाद में करूला आबिद नगर, तहसील स्कूल, चौकी हसन खा, दीवान का बाजार, किसरौल, दौलत बाग, नवाबपुरा, लालबाग, मुफ्ती टोला, जीआइसी, नई सड़क आदि मुहल्लों में दुकाने बंद हैं।

दौरे पर हैं अधिकारी 

विरोध-प्रदर्शन और सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस प्रशासन के आला अधिकारी भी दौरा कर जायजा ले रहे हैं। एसपी सिटी अमित आनंद, प्रभारी निरीक्षक थाना गलशहीद रोरिया समेत भारी पुलिस बल ईदगाह के मैदान पहुंच गया है। वहीं दूसरी ओर कुन्दरकी में बुधवार को सोशल मीडिया पर सीएए के विरोध में बाजार बंद की सूचना तैरती रही। फलस्वरूप क्षेत्र में मिलाजुला असर देखने को मिला। थानाध्यक्ष सहित पुलिस टीम मुस्तैद रही। 

अमरोहा में भी बाजार बंद 

नागरिकता संशोधन विधेयक एवं एनआरसी के विरोध में बुधवार को हसनपुर तथा उझारी मुस्लिम बाहुल्य इलाकों में बाजार बंद रहा। हसनपुर में बाजार बंद की सूचना पर एसडीएम विजय शंकर कोतवाल आरती शर्मा ने पुलिस बल के साथ भ्रमण किया तथा नगर के संभ्रांत लोगों को साथ लेकर लोगों को समझाकर कुछ दुकानों को खुलवा दिया है। कस्बा उझारी में दोपहर तक अधिकांश मार्केट बंद रहा।

15 दिन से चल रही थी तैयारी 

मुरादाबाद में ईदगाह के मैदान में धरने के बीच एलान किया गया कि जिनको धरने पर नहीं बैठना है, वह ईदगाह से चले जाएं। विरोध जताने वालों का कहना था कि  हमको संविधान बचाने के लिए लड़ाई लडऩी है। हमें एनआरसी से आजादी चाहिए। चंद्रशेखर वाली आजादी चाहिए। गांधी वाली आजादी चाहिए। सीएए को लेकर विरोध-प्रदर्शन की तैयारी तकरीबन 15 दिन से चल रही थी। इसी के मद्देनजर पुलिस-प्रशासन ने भी शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए कई इंतजाम किए हैं। 

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस