रामपुर, जेएनएन। समाजवादी पार्टी के गढ़ माने जाने वाले रामपुर में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी की जीत को समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। अपनी प्रतिष्ठता से जुड़ी सीट को गंवाने के बाद आजम खां ने मीडिया से ब्रीफिंग में भारतीय जनता पार्टी पर धांधली करने का आरोप लगाया।

रामपुर लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी घनश्याम सिंह लोधी की जीतने के बाद सपा नेता आजम खां ने मीडिया कांफ्रेंस में योगी आदित्यनथ सरकार पर तमाम आरोप लगाए। इस दौरान उन्होंने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि यह चुनाव जरा सा भी निष्पक्ष नहीं था। रामपुर के लोगों की जीत को हार में बदला गया है। आजम खां ने कहा कि लोकतंत्र पर ठोकतंत्र भारी पड़ा है और यह चुनाव निष्पक्ष नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि इस उपचुनाव में सरकार मशीनरी का जबरदस्त दुरूपयोग हुआ है और लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

आजम खां ने इसके साथ ही मुसलमानों के साथ भेदभाव का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अगर मुस्लिमों से इतनी नफरत है तो हमारा वोट का अधिकार खत्म कर दो। यहां पर तो हमारी जीत को हार में बदला गया, यहां की तहजीब को पुलिस की बूटों के तले कुचला गया। उन्होंने कहा कि आज से असीम राजा को हम तो एमपी कहेंगे, वो हारे नहीं जीते हैं। इसे न चुनाव कह सकते हैं न चुनावी नतीजे आना कह सकते हैं।

आजम खां ने कहा कि 900 वोट के पोलिंग स्टेशन में सिर्फ छह वोट डाले गए और 500 के पोलिंग स्टेशन में सिर्फ एक वोट डाला गया है। जिस तरह से वोट डाले गए, इसे तो हम अपने प्रत्याशी की जीत मानते हैं। हम तो आसिम राजा से कहते हैं कि आपकी जीत को हार में बदला गया है। उन्होंने कहा कि रामपुर में तो लोकतंत्र पर ठोकतंत्र भारी पड़ा है। यहां पर निष्पक्ष चुनाव नहीं हुआ है। हर जगह पर सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग हुआ है।

आजम खां के गढ़ रामपुर में सपा प्रत्याशी आसिम राजा को भाजपा प्रत्याशी घनश्याम लोधी ने 42,192 वोटों से करारी शिकस्त दी है। इसके साथ ही आजमगढ़ से भाजपा प्रत्याशी दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ जीते हैं। सपा के दिग्गज नेता एक बार फिर उपचुनाव की प्रक्रिया में पारदर्शिता की कमी का आरोप लगा रहे हैं।

Edited By: Dharmendra Pandey