मुरादाबाद [प्रदीप चौरसिया]। Railway Freight Facility from Old Coach : रेलवे अब यात्री ढोने वाले पुराने कोचों से माल की ढुलाई करेगा। इससे रेलवे की आय बढ़ेगी और व्यापारी भी कम किराए में माल की ढुलाई करा सकेंगे। मुरादाबाद रेल मंडल में रामपुर व बरेली से पैकेट बंद खाद्य सामग्री को पश्चिम बंगाल भेजने की योजना है। कोरोना संक्रमण के बाद रेलवे ने अधिक से अधिक माल ढुलाई करानी शुरू कर दी है। छोटे से छोटे व्यापारियों तक से माल ढुलाई कराने के लिए प्रत्येक मंडल में व्यापार विकास यूनिट बनाई गई है। यूनिट के अधिकारी लगातार व्यापारियों से संपर्क कर रहे हैं। जिससे लगातार माल ढुलाई में वृद्धि हो रही है।

मुरादाबाद रेल मंडल से होकर प्रतिदिन औसत 160 मालगाड़ी देश के विभिन्न जगहों के ल‍िए जाती हैं। माल ढुलाई बढ़ने के बाद खाली कोच की समस्या उत्पन्न हो गई है। दूसरी ओर रेलवे ने 15 साल से अधिक पुराने कोच को धीरे-धीरे हटाना भी शुरू कर दिया है। इसके स्थान पर आधुनिक सुविधा वाला कोच ट्रेनों में लगाया जा रहा है। रेलवे ने माल ढुलाई में बोगी की कमी की समस्या से निपटने के लिए खाली पड़े यात्री कोच से माल ढुलाई कराने की योजना तैयार की है। इस कोच से चावल-गेहूं से स्थान पर पैकेट बंद खाद्य पदार्थों को भेजा जाएगा। उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश की सीमा पर रुद्रपुर में कई बड़ी फैक्ट्रियां हैं, फैक्ट्री संचालक ट्रक द्वारा रामपुर तक माल भेजते हैं। रामपुर से मालगाड़ी द्वारा पश्चिम बंगाल, पूर्वोत्तर राज्यों को माल भेजा जाता है। नई व्यवस्था के बाद व्यापारियों को कम क‍िराए में माल की ढुलाई की सुविधा उपलब्ध होगी। मंडल रेल प्रबंधक अजय नंदन ने बताया कि पुराने कोच से यात्रियों को नहीं ले जाया जा रहा है। खाली कोच से माल ढुलाई कराने के लिए रामपुर व बरेली के कारोबारियों से वार्ता की गई है। इसके लिए मुख्यालय को प्रस्ताव भेजा गया है। इसके लिए खाली कोच की व्यवस्था की गई है। कई व्यापारियों के माल को एकत्रित कर 15 से 20 कोच वाला ट्रेन बनाकर भेजा जाएगा। इसके अलावा व्यापारियों की सुविधा के लिए मालगोदाम में सुधार करने जैसा काम किया जा रहा है।

Edited By: Narendra Kumar