जेएनएन,रामपुर। सरकारी जमीन कब्जाने के मामले की विवेचना करने गई पुलिस टीम पर आरोपित पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मशकूर अहमद मुन्ना व उनके परिवारीजन के नेतृत्व में ग्रामीणों ने हमला कर दिया। पुलिस कर्मियों से मारपीट की और सरकारी अभिलेख फाड़ दिए।

यह मुकदमा उद्यान निरीक्षक जगजीत सिंह की तहरीर पर हुआ था। मुकदमेे में कहा था कि ककरौआ गांव में राजकीय उद्यान विभाग की जमीन पर दोनों भाइयों का पिछले कई सालों से कब्जा है। वे इस जमीन पर खेती कर रहे थे। बार-बार जमीन को कब्जा मुक्त कराया गया लेकिन, दोनों फिर कब्जा कर लेते थे। शहजादनगर पुलिस ने उद्यान निरीक्षक की शिकायत पर दोनों भाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी। मुकदमे की जांच कर रहे दारोगा विमल कुमार पांडेय गुरुवार को सिपाही बलवीर सिंह के साथ ककरौआ गांव पहुंचे। आरोप है कि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष के घर पर काफी लोग जमा था। दारोगा ने मुकदमे के संबंध में बयान दर्ज कराने को कहा तो उन्होंने गाली देनी शुरू कर दी। मना करने पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष मशकूर अहमद मुन्ना, उनके भाई मसरूर अहमद, प्रधान पति शाहिद व अन्य ग्रामीणों ने पुलिस टीम पर लाठी-डंडों और धारदार हथियारों से हमला कर दिया। प्रपत्र फाड़ दिए गए। इसके बाद पुलिसकर्मी जान बचाकर भाग निकले। सूचना थाने में दी, जिस पर वहां तुरंत पुलिस फोर्स भेजी गई।

हमला करने के सात आरोपित मौके से गिरफ्तार

शहजादनगर थाना प्रभारी परवेज कुमार चौहान ने बताया कि पुलिस टीम पर हमले के आरोप में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष, उसके भाई, प्रधान पति समेत 30 के खिलाफ बलवा, मारपीट, सरकारी कार्य में बाधा, धमकी, गाली देने आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। इसके अलावा सात क्रिमनल लॉ अमेंडमेंड एक्ट भी लगाया है। हमला करने वालों में शामिल हबीब पुत्र अब्दुल रहमान, अनीस पुत्र अब्दुल रहमान, वसीम पुत्र जमील, मुजीबुर्रहमान पुत्र अब्दुल रहमान, जीशान पुत्र इख्तेदार, फुरकान पुत्र इन्तजार हुसैन और मेहराज मियां उर्फ भूरा मियां पुत्र जब्बार मियां शामिल हैं। मुकदमे में फरार पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष, उनके भाई और प्रधानपति की तलाश की जा रही है। गौरतलब है कि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष समाजवादी पार्टी से जुड़े हैं और सांसद आजम खां के करीबी हैं।

 

Posted By: Narendra Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप