मुरादाबाद, जेएनएन। उत्तर प्रदेश पुलिस ने कोरोना काल में दारोगा की ट्रेनिग सकुशल संपन्न कराने की ऐसी ठोस कार्ययोजना तैयार की है, जिसके बल पर खतरनाक वायरस के संक्रमण के प्रभाव को निस्तेज किया जा सके। पुलिस की ठोस कार्ययोजना का ही परिणाम है कि मुरादाबाद के सभी तीन प्रशिक्षण केंद्रों पर डीएसपी व दारोगा की ट्रेनिग बगैर किसी बाधा के जारी है। कोरोना काल में 24 मई को लाकडाउन लागू होते ही पुलिस के सभी प्रशिक्षण संस्थान सतर्क हो गए। डा. भीमराव आंबेडकर पुलिस अकादमी, पुलिस ट्रेनिग कालेज व पुलिस ट्रेनिग स्कूल ने सभी प्रशिक्षुओं को खतरनाक वायरस से आगाह करते लाकडाउन के नियमों का अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा। यहां तक कि प्रशिक्षण केंद्रों के कार्यालय व कक्षाएं तक सैनिटाइज कराई गईं। पुलिस अकादमी में लाकडाउन ए व दो में आनलाइन कक्षाएं तक चलीं। इसके अलावा प्रशिक्षु दारोगा की टोलियों में वृद्धि तक की गई। हालांकि टोली बढ़ने से प्रशिक्षण कार्य में समय अधिक व्यय हो रहा है, फिर भी प्रशिक्षण संस्थान कोरोना काल में कोई खतरा मोल नहीं ले रहे। पुलिस अकादमी में 42 डीएसपी व 220 दारोगा प्रशिक्षणरत हैं। पीटीसी में 700 और पीटीएस में 220 दारोगा प्रशिक्षण ले रहे हैं। कोरोना काल में परेड व ड्रील के प्रारूपों में परिवर्तन हुआ है। शारीरिक दूरी के नियमों का अनुपालन हो रहा है। प्रशिक्षण केंद्रों पर जगह का कोई अभाव नहीं है। प्रशिक्षण का समय जरूर बढ़ेगा। फिर भी डीएसपी व दारोगा का समयबद्ध प्रशिक्षण पूरा हो जाएगा। राजीव कृष्ण, निदेशक/ एडीजी डा़ भीमराव आंबेडकर पुलिस अकादमी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस