मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। माल ढुलाई के साथ-साथ रेलवे ने छोटे स्टेशनों वाले क्षेत्र के व्यापारियों की समस्याओं पर ध्‍यान देना शुरू कर दिया है। अब सामान ढुलाई के बाद वापस लौट रही मालगाड़‍ियों को रास्‍ते के स्‍टेशनों पर रोककर उनमें सामान भरकर गंतव्‍य तक पहुंचाया जाएगा। इससे रेलवे की आय और बढ़ेगी साथ ही व्‍यापारियों को सुविधा भी मिलेगी।

रेल प्रशासन इस दिनों अधिक आय अर्जित करने के लिए लगातार माल की ढुलाई कर रहा है। माल ढुलाई बढ़ने के साथ मालगाड़ियों की मांग बढ़ गई है। रेल प्रशासन कम समय में माल पहुंचने और खाली बोगी को गंतव्य तक पहुंचने में लगा है। मांग बढ़ने के बाद रेलवे ने दो हजार बोगी तैयार करने के लिए बजट उपलब्ध कराया है। बड़े  कारोबारियों को तो मालगाड़ी मांग के अनुरूप उपलब्‍ध हो जाती है लेकिन, छोटे कारोबारियों को बोगी नहीं मिल पाती है।

उदाहरण के लिए स्टील व पीतल के बने बर्तन आदि मुरादाबाद से देश भर में आपूर्ति किए जाते हैं। मुरादाबाद से बंगाल, दक्षिण भारत के विभिन्न स्थानों के लिए पांच से दस वैगन की मांग की जा रही है, लेकिन खाली वैगन नहीं मिलने से व्यापारी परेशान हैं।

रेलवे प्रशासन व्यापारियों की सुविधा के लिए खाली वापस जा रही मालगाड़ी को बीच रास्ते के स्टेशनों पर मांग के अनुरूप बोगी उपलब्ध कराएगा। जिससे व्यापारियों को मांग के अनुरूप बोगी मिल जाएगी और रेल को अतिरिक्त आय होगी। इस व्यवस्था के बाद मुरादाबाद मंडल के रुड़की, धामपुर, मुरादाबाद, बरेली, रोजा स्टेशन के कारोबारियों को इसका लाभ मिलेगा। कई व्यापारी मिलकर एक बोगी में संयुक्त रुप से भी एक स्थान पर माल भेज सकते हैं। फल उत्पादन करने वाले किसानों व कारोबारियों को भी इसका लाभ मिलेगा।

वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक सुधीर सिंह ने बताया कि बीच के स्टेशनों के कारोबारियों की मांग के अनुरूप बोगी उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा रही है। कारोबारी की मांग के अनुसार गंतव्य स्थान जाने वाली खाली मालगाड़ी में माल की ढुलाई करायी जाएगी।

Edited By: Vivek Bajpai

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट