अमरोहा, जेएनएन। गजरौला में जिला पंचायत सदस्य अंजु भारती व उनके परिवार के अपहरण के मामले में मंगलवार को फिर उनके ससुर ने बयान बदल दिए। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस के सामने अपने पक्ष में बयान कराने के बाद भी पूर्व ब्लाक प्रमुख जयदेव व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष के पति सरजीत बच्चों को छोड़ नहीं रहे हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर चल रहे सियासी घमासान में प्रतिदिन नये प्रकरण सामने आ रहे हैं। नत्थू सिंह ने डिडौली कोतवाली में जिला पंचायत के वार्ड 27 की सदस्य व अपनी पुत्रवधू अंजु भारती का बेटे प्रमोद भारती समेत अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। उन्होंने अपहरण का आरोप पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष पति सरजीत सिंह व पूर्व ब्लाक प्रमुख जयदेव पर लगाया था। इस मामले में एक सप्ताह पूर्व तब नया मोड़ आ गया था जब जिपं सदस्य अंजु भारती के पति ने अपने समर्थकों के साथ एसपी के यहां पेश होकर अपहरण का आरोप नकार दिया था। इसके बाद खुद नत्थू सिंह ने सीओ के सामने पेश होकर अपहरण की बात गलत बता दी। मंगलवार को नत्थू सिंह ने फिर यूटर्न लेते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष सरिता चौधरी एवं उनके पति चौधरी भूपेंद्र सिंह से उनके आवास मुहल्ला चौधरी चरणङ्क्षसह नगर पर मुलाकात की। यहां उन्होंने भूपेंद्र को पत्र सौंपकर कहा कि पिछले सप्ताह उनके पुत्र प्रमोद को दबाव में लेकर घर छोडऩे का वादा करते हुए पुलिस अधीक्षक के समक्ष सरजीत व जयदेव अपने पक्ष में बयान कराकर फिर अज्ञात स्थान पर ले गए। उन्हें अभी तक उनके बच्चे नहीं मिले हैं। उनकी जान का खतरा बताते हुए जिपं अध्यक्ष से अधिकारियों द्वारा मदद की गुहार लगाई है। भाजपा नेता चौधरी भपूेंद्र सिंह ने बताया कि इस मामले से अधिकारियों को अवगत कराया जा रहा है।

मेरे पिता को बरामद कराओ एसपी साहब!

जिला पंचायत के वार्ड 23 व 24 के सदस्यों के लापता होने के मामले में तीसरे दिन भी पुलिस कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर सकी है। अभी तक दोनों को न तो बरामद किया गया है तथा न ही मुकदमा दर्ज हुआ है। तीसरे दिन सदस्य हाजी इफ्तेखार हुसैन के बेटे मोहम्मद रिहान ने पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन ताडा से मुलाकात कर पिता को बरामद कराने की मांग की है। वहीं, पुलिस का कहना है कि उनका अपहरण नहीं हुआ है तथा वह परिजनों के संपर्क में हैं।

काबिलेगौर है कि रविवार को डिडौली कोतवाली क्षेत्र में हाईवे पर जिला पंचायत के वार्ड 23 के सदस्य हाजी इफ्तेखार हुसैन व वार्ड 24 के सदस्य रियाजुल हसन लापता हो गए थे। हाजी इफ्तेखार के बेटे मोहम्मद रिहान ने कोतवाली में तहरीर देकर उनके पिता व रियाजुल हसन का अपहरण किए जाने का आरोप लगाया था। रिहान ने जिला पंचायत अध्यक्ष सरिता चौधरी के पति भूपेंद्र सिंह समेत छह लोगों के खिलाफ तहरीर दी थी। परंतु पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की थी। अब तीसरे दिन भी इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई है। मंगलवार को मोहम्मद रिहान ने पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन ताडा से मुलाकात की तथा अपने पिता को बरामद कराने की मांग की है। एसपी ने उन्हें जांच कराने का आश्वासन दिया है। वहीं, डिडौली प्रभारी निरीक्षक शरद मलिक ने बताया कि सोमवार को रियाजुल हसन के बेटे मोहम्मद फैजान ने उनके पिता का अपहरण न होने संबंधी बयान दिए थे। जबकि दोनों सदस्य अपने परिजनों के संपर्क में हैं। फिर भी मामले की जांच की जा रही है।  

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस