मुरादाबाद, जेएनएन। Ramleela in Moradabad : कोरोना काल के बीच प्रभु श्री राम की लीला आयोजन की तैयािरयां पूरी हैं। विधिवत रूप से इस बार सभी परंपराएं रामलीला मंचन में होंगी। पिछले साल कोविड के कारण, शहर की रामलीलाओं के मंचन का स्वरूप छोटा कर दिया गया था। रावण के पुतले का कद भी छोटा हो गया था। लेकिन, अबकी बार लाइनपार में करीब 100 फीट का रावण का पुतला बनेगा। दसवां घाट पर पिछले साल रामलीला मंचन नहीं हुआ था। केवल सुबह शाम प्रभु श्री राम की आरती हुई थी। लेकिन, अबकी बार मंचन होगा। लाजपतनगर में भी रामलीला पूरी होगी। जबकि लाइनपार में अबकी बार कई अतिरिक्त प्रसंग रामलीला के दिखाए जाएंगे। लाइनपार में अबकी बार रावण व सीता का जन्म और श्रवण व दशरथ संवाद भी दिखाया जाएगा। यह प्रसंग पहले नहीं होता था। लेकिन, अबकी बार बदलाव साफ नजर आएगा। दर्शक भी रामलीला में कुछ क्रिएटिविटी चाहते हैं।

बिरजु महाराज की शिष्य माही भी आएंगीः कथक के विश्व प्रसिद कलाकार बरजु महाराज की शिष्य माही भी लाइनपार की रामलीला में आएंगी। वह भी रामलीला में कथक से दर्शकों का दिल जीतेंगी। इसको ध्यान में रखते हुए श्रीराम लीला कमेटी ने नए प्रंसगों को जोड़ने के साथ ही इंडिया टेंलेंट से जुड़े कलाकार भी अपना टेंलेंट दिखाएंगे। यह कलाकार फिरोजाबाद, आगरा व मुंबई से आएंगे।

जन्माष्टमी, गणेश महोत्सव से मायूसी के बाद रामलीला ने जगाई आसः गणेश महोत्सव पर झांकियां नहीं लगीं, जन्माष्टमी और सावन का मेला भी फीका रहा। अब प्रभु की श्री रामलीला से उम्मीदें हैँ। लाइनपार रामलीला के कलाकार राहुल कुमार कहते हैं कि प्रभु की लीला कोरोना के बीच हो रही है। हमें भले कोई पैसे की बचत न हो लेकिन, प्रभु की लीला हो जाए, यही कामना करते हैं। राहुल कहते हैं कि कलाकारों का कोरोना ने बहुत नुकसान किया है। जितनी सेविंग थी वह खाली वक्त में खर्च हो गई। अब नई ऊर्जा के साथ रामलीला के लिए खुद को तैयार किया है। प्रभु से प्रार्थना है कि कोरोना का संकट अब न आने दें। लाजपतनगर की श्री राम कथा मंचन समिति रस्तोगी कहते हैं कि इस बार नवीन सज्जा और नवीन प्रसंग के साथ श्री रामलीला का मंचन होगा। वृंदावन से रामलीला मंचन के लिए कलाकार आएंगे। पिछले कई सालों से वृंदावन से ही कलाकार आते थे लेकिन, पिछले साल कोरोना के कारण स्थानीय स्तर के कलाकारों ने रामलीला की थी।

Edited By: Samanvay Pandey