मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में एक नटवरलाल पकड़ा गया है, जो डाक विभाग में 25 सालों से नौकरी कर रहा था। इस फर्जीवाड़े का खुलासा होने पर डाक विभाग ने उसे पद से निलंबित कर दिया है और उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी में जुट गया है। मालूम हो कि फर्जीवाड़ा कर नौकरी कर रहे आराेपित कर्मचारी ने मार्कशीट के नंबरों में हेर फेर कर नौकरी हासिल की थी।

जानकारी के मुताबिक, मुरादाबाद डाक विभाग में एक कर्मचारी फर्जी मार्कशीट के द्वारा 25 साल के नौकरी करते हुए पाया गया। डाक विभाग के आरोपित कर्मचारी अरविंद मोहन शर्मा को निलंबित कर दिया है, अब मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी शुरू कर दिया है। 

बड़बोलेपन के कारण हुई थी शिकायत

कुछ माह प्रवर डाक अधीक्षक कार्यालय में वरिष्ठ सहायक के पद पर अरविंद मोहन शर्मा की तैनाती की गई थी। इसके बड़बोलेपन के कारण कुछ लोगों ने शिकायत डाक विभाग के अधिकारियों से किया था और आरोप लगाया था कि फर्जी मार्कशीट के आधार पर नौकरी कर रहा है।

मुख्यालय के आदेश पर प्रवर डाक अधीक्षक ने जांच शुरू कराई थी, जिसमें पाया कि वर्ष 1992 में डाक सहायक के पद पर नियुक्ति के लिए आवेदन मांगा गया था। जिसमें प्रथम श्रेणी से हाई स्कूल व इंटर पास करने वालों को वरीयता दिया जाना था। अरविंद मोहन शर्मा ने राजकीय इंटर कालेज मुरादाबाद से हाई स्कूल व इंटर पास होने मार्कशीट जमा किया था।

तृतीय श्रेणी में पास किया था हाईस्कूल व इंटर 

डाक विभाग की टीम ने राजकीय इंटर कालेज व माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मार्कशीट की जांच कराया। जांच में वर्ष वर्ष 1982 में हाई स्कूल तृतीय श्रेणी से पास किया था और मार्कशीट में बदलाव कर प्रथम श्रेणी कर दिया था। इसी तरह से वर्ष 1985 में इंटर तृतीय श्रेणी से पास किया था, उसमें भी बदलाव कर प्रथम श्रेणी कर दिया था। जांच समिति ने पीछे दिनों जांच रिपोर्ट प्रवर डाक अधीक्षक को सौंप दिया था। जांच रिपोर्ट मिलते ही अरविंद मोहन शर्मा को काम से रोक दिया। 

प्रवर डाक अधीक्षक वीर सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट मिलते ही आरोपित लिपिक अरविंद मोहन शर्मा निलंबित कर दिया है। आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए विभाग से अनुमित मांगा है। अनुमति मिलते ही मुकदमा दर्ज करायी जाएगी।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट