जागरण संवाददाता, मुरादाबाद : एसएसपी पवन कुमार ने मुरादाबाद जिले में आमद कराने के बाद पहली ही बैठक में थाना प्रभारियों को एक महीने का समय दिया था। दो प्रभारी निरीक्षक उनके मानक पर खरे नहीं उतरे। इस पर एसएसपी ने मझोला और मुगलपुरा के प्रभारी निरीक्षकों को हटाकर उनके स्थान पर नई तैनाती कर दी है। अच्छा काम करने वाले दो चौकी प्रभारियों को भी कप्तान ने बतौर इनाम थानाध्यक्ष बना दिया है।

प्रभारी निरीक्षक मझोला मुकेश शुक्ला की तैनाती तत्कालीन एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने की थी लेकिन, उनकी आए दिन शिकायतें मिल रही थीं। कांशीराम नगर चौकी क्षेत्र से एक किशोरी के अपहरण को लेकर मझोला पुलिस की फजीहत हो रही है। पुलिस अभी तक किशोरी को बरामद नहीं कर पाई है। किशोरी के माता-पिता बरामदगी को लेकर कलक्ट्रेट गेट के सामने धरने पर बैठे हैं। वह चौकी इंचार्ज कांशीराम नगर के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। कप्तान ने मझोला इंस्पेक्टर मुकेश शुक्ला को किशोरी को बरामद करने के लिए समय दिया था लेकिन, वह किशोरी को बरामद नहीं कर पाए। एसएसपी ने उन्हें हटाकर उनके स्थान पर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह को मझोला का नया प्रभारी निरीक्षक नियुक्त किया है। अशोक कुमार के स्थान पर नागफनी इंस्पेक्टर सुनील कुमार को शहर कोतवाल बना दिया है। इन दोनों ही प्रभारी निरीक्षकों को अच्छा काम करने का इनाम मिला है। थाना कटघर की काशीपुर तिराहा पुलिस चौकी के प्रभारी उप निरीक्षक राशिद अली को भोजपुर का थाना प्रभारी बनाया गया है। थाना सिविल लाइंस की फकीरपुरा चौकी के प्रभारी रामप्रताप सिंह थाना छजलैट का प्रभारी बनाया गया है। दोनों की चौकी प्रभारियों को अच्छा काम करने का इनाम मिला है। इसके अलावा निरीक्षक अमित कुमार को पुलिस लाइन से थाना मुगलपुरा का प्रभारी निरीक्षक बनाया है। मुगलपुरा के प्रभारी निरीक्षक सतीश कुमार को अपराध शाखा (विवेचना सेल) में तैनात किया गया है। प्रभारी निरीक्षक मझोला मुकेश कुमार शुक्ला रिट सेल में नियुक्त कर दिया है।

अपराध शाखा (विवेचना सेल) से निरीक्षक जयप्रकाश को प्रभारी निरीक्षक थाना नागफनी की जिम्मेदारी मिली है।

थानाध्यक्ष छजलैट सुनील कुमार को बतौर थानाध्यक्ष भगतपुर भेज दिया गया है। थाना छजलैट के ही वरिष्ठ उप निरीक्षक इलम सिंह को भगतपुर का एसएसआइ बनाया गया है। बताया जा रहा है कि अभी देहात के और भी थानों में भी फेरबदल होना है। अच्छा काम न करने वाले थानाध्यक्षों को हटाकर उनके स्थान पर नए लोगों को मौका दिया जा सकता है।

Edited By: Jagran