मुरादाबाद, जागरण संवाददाता। जूना अखाड़े के संत और साध्वी ने एक व्यक्ति पर जूठा भोजन फेंकने का आरोप लगाया। आरोप है कि ई-रिक्शा से मंडी चौक जाते समय ईदगाह चौराहे के पास एक व्यक्ति ने पालीथिन दोनों पर फेंक दी। संत के अनुसार पालीथिन में जूठा भोजन था। पुलिस ने इस मामले में एनसीआर दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता चला आरोपित मानसिक रूप से बीमार है। पीड़ित संत और साध्वी ने हरिद्वार जाकर एक वीडियो बनाया। इसके बाद उसको इंटरनेट मीडिया में वायरल कर दिया। सीओ कटघर डाक्टर अनूप कुमार सिंह ने बताया कि मामला दो दिन पुराना है। इस मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपित को गिरफ्तार किया गया था।

हरियाण के झज्जर जनपद के सलावर थाना क्षेत्र के कोसरी रोड शनिदेव मंदिर आश्रम निवासी संत कपिल गिरी और साध्‍वी मंशा गिरी हैं। दोनों जूना अखाड़े के संत हैं। कपिल गिरी ने बताया कि बीते 29 जून को वह साध्वी मंशा गिरी के साथ मैनाठेर थाने गए थे। मंशा गिरी के रिश्तेदारों से एक मामले का विवाद चल रहा है। इस मामले में वह मैनाठेर थाने में शिकायत करने के बाद शहर वापस आए थे। इस दौरान सम्भल रोड में डबल फाटक में उतरने के बाद वह दोनो ई-रिक्शा में बैठकर मंडी चौक कुछ सामान लेने के लिए जा रहे थे। रात करीब साढ़े आठ बजे ईदगाह चौराहे के पास ई-रिक्शा सवारी उतारने के लिए रुका। इसी दौरान जैसे ई-रिक्शा आगे बढ़ा एक व्यक्ति ने उनके ऊपर पालीथिन में गंदगी भरकर फेंक दी।

पालीथिन में जूठा भोजन था। जिससे उनके कपड़े खराब हो गए। इसके बाद संत और साध्वी दोनों गलशहीद थाने पहुंच गए। पुलिस कर्मियों ने दोनों को थाने में बिठाने के साथ घटना के संबंध में जानकारी मांगी। इस दौरान संत कपिल गिरी की तहरीर पर अज्ञात आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई की गई। सूचना मिलने पर सीओ कटघर डाक्टर अनूप कुमार सिंह मौके पर पहुंच गए। उन्होंने पीड़ित संतों से पूरे मामले की जानकारी ली। इस दौरान पुलिस ने संतों को नए कपड़े दिलाने का प्रस्ताव दिया। लेकिन उन्होंने इन्कार कर दिया। इसके बाद पुलिस कर्मियों ने ई-रिक्शा से दोनों संतों को बस अड्डे के लिए भेज दिया।

सीसीटीवी फुटेज से आरोपित की पहचान कर किया गिरफ्तार: घटना के बाद चौराहे पर लगे सीसीटीवी फुटेज को देखकर पुलिस ने आरोपित की पहचान की। पहचान के बाद पुलिस ने आरोपित नुसरत अली निवासी ईदगाह थाना गलशहीद को गिरफ्तार कर चालान कर दिया। पुलिस के अनुसार पकड़ा गया आरोपित मानसिक रूप से बीमार है।

हरिद्वार पहुंचने के बाद दोनों संत ने बनाया वीडियो: घटना के बाद दोनो संत हरिद्वार स्थित जूना अखाड़ा पहुंचे। इस दौरान उन्होंने एक वीडियो बनाया, जिसमें दोनो ने अपने साथ हुई घटना के बारे में जानकारी दी। संत कपिल गिरी के अनुसार मुरादाबाद में एक नेता ने उन्हें फोन करके वीडियो मांगा था। जिसके बाद उन्हाेंने वीडियो बनाकर उन्हें भेजा था। शुक्रवार को इस वीडियो को ट्विटर में पोस्ट करते हुए पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई। सीओ डाक्टर अनूप कुमार सिंह ने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है। भ्रामक सूचनाएं और माहौल खराब करने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Vivek Bajpai