मुरादाबाद, जेएनएन।  उत्तर प्रदेश जल निगम में तैनात एक जूनियर इंजीनियर (जेई) शुक्रवार को गाजियाबाद के एक ठेकेदार से रिश्वत के रूप में 50 हजार रुपये लेते रंगेहाथ गिरफ्तार हो गया। मुरादाबाद की एंटी करप्शन टीम ने आरोपित जेई को टीडीआई सिटी स्थित उसके कार्यालय से गिरफ्तार किया। एंटी करप्शन टीम ने जेई के एक निजी सहयोगी को भी गिरफ्तार किया है। सिविल लाइन थाने मेें भ्रष्टाचार का अभियोग पंजीकृत करने के बाद जेई व उसके सहयोगी को जेल भेज दिया गया। 

यह है पूरा मामला 

मुरादाबाद एंटी करप्शन टीम के प्रभारी निरीक्षक अब्दुल रज्जाक के मुताबिक कवि नगर गाजियाबाद के रहने वाले योगेंद्र प्रकाश त्यागी पुत्र ओमप्रकाश त्यागी उत्तर प्रदेश जल निगम में ठेकेदार हैं। महानगर के समीप डक्का कुंदनपुर गांव की सीमा में जल निगम की सीएनडीएस (कंस्ट्रक्शन एंड डिजाइन सर्विस) गरीबों के आवास का निर्माण करा रही है। भवन निर्माण का ठेका योगेंद्र प्रकाश त्यागी ने भी लिया है। ठेकेदार के मुताबिक 29 लाख रुपये के बकाए के भुगतान के लिए वह जल निगम के जेई अश्वनी कुमार निवासी ग्राम किताबी मुजफ्फर नगर का बीते डेढ़ माह से चक्कर काट रहे थे। भुगतान में हीलाहवाली करते हुए वह ठेकेदार से पचास हजार रुपये घूस मांग रहे थे। थकहार कर ठेकेदार ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन टीम से की। शुक्रवार को एंटी करप्शन टीम निरीक्षक विक्रम सिंह व राखी के नेतृत्व में योजनाबद्ध तरीके से रामगंगा विहार स्थित टीडीआई सिटी पहुंची। वहां जेई अपने कार्यालय में मौजूद था। ठेकेदार ने रिश्वत के रूप में जेई को 50 हजार रुपये दिया। जेई द्वारा घूस की रकम लेेते ही एंटी करप्शन टीम ने उसे दबोच लिया। मौके पर जेई का निजी सहयोगी पंकज निवासी मुरादाबाद भी मिला। 

दोनों के खिलाफ मुकदमा 

एंटी करप्शन टीम ने दोनों को दबोचा। इसके बाद दोनों आरोपित सिविल लाइन थाने लाए गए। भ्रष्टाचार के अभियोग में दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ। इसके बाद दोनों जेल भेज दिए गए। 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस